पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • After Selling Wheat On Support Price, There Was A Long Queue Of Farmers Outside The Bank To Withdraw Money

जोखिम में जान:समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के बाद रुपए निकालने के लिए बैंक के बाहर किसानों की लंबी कतार लगी

उज्जैन23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चिमनगंज मंडी बंद है लेकिन इसके परिसर में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के बाहर किसानों की कतार लगी है। - Dainik Bhaskar
चिमनगंज मंडी बंद है लेकिन इसके परिसर में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के बाहर किसानों की कतार लगी है।
  • किसान बोले- खरीफ की तैयारी के लिए रुपयों की जरूरत इसलिए आए

सरकार एक जून से अनलॉक की बात कर रही है। इससे पहले 31 मई तक लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने का भी कह चुकी है। इसके इतर उज्जैन की कुछ तहसीलों में कोरोना मेला लगा हुआ है। यहां के महिदपुर, उन्हेल और झारड़ा क्षेत्रों के बैंकों के सामने किसानों की भीड़ उमड़ रही है।

इस दौरान कोविड-19 की गाइडलाइन की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है। शहर के अलावा पिछले 15-20 दिनों में गांवों में भी कोरोना ने पैर पसारे हैं। बड़ी संख्या में बीमारी की चपेट में आने के बाद भी ग्रामीणों ने सीख नहीं ली। शहर के पास ग्रामीण इलाकों में बैंकों के सामने लगी भीड़ यही बता रही है। आशंका है कि इनमें से एक व्यक्ति भी संक्रमित हुआ तो आने वाले समय में ग्रामीण क्षेत्रों के हाल का अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता।

केंद्र सरकार ने किसान सम्मान निधि के दो हजार रुपए किसानों के खाते में डाले हैं। इसके अलावा समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के बाद भुगतान भी जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के जरिए ही किसानों के खाते में आ रही है। खरीफ फसल की तैयारियों में लगे किसानों को अब रुपयों की जरूरत भी है। ऐसे में वे रोज बैंक के बाहर कतार लगा रहे हैं।

रुपए न निकालें तो खरीफ की तैयारी कैसे करें
जलालखेड़ी से आए किसान गोवर्धन सिंह ने दो महीने पहले समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचे थे। उनका कहना है भुगतान जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के खाते में अा गया है लेकिन खरीफ के लिए खेतों की तैयारियों में जुटे होने से उन्हें वक्त नहीं मिल रहा था। अब खाद, बीज से लेकर कीटनाशक के लिए रुपयों की जरूरत है। वे चिमनगंज मंडी की जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में कतार में लगे थे।
बीज खरीदना है, कतार में तो लगना पड़ेगा
चिमनगंज कृषि उपज मंडी के जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के बाहर कतार में लगे चकरावदा के किसान बलराम। उनका कहना है कि बीज, खाद खरीदने के लिए रुपयों की जरूरत है। जब अपने खाते में रुपए हैं तो कहीं और क्यों जाएं। कोरोना संक्रमण के संबंध में पूछने पर बोले- डर तो लगता है कि लेकिन इस वक्त रुपए नहीं निकालेंगे तो कब निकालेंगे।

खबरें और भी हैं...