पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Amity Center Will Take Shape, Large Number Of Passengers Will Be Able To Stay, Food And Entertainment Facilities

कोरोना ने छीन ली थी रेलवे की ऑक्सीजन:आकार लेगा एमीनिटीज सेंटर, बड़ी संख्या में यात्री रुक सकेंगे, खाने-मनोरंजन की सुविधा

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्लेटफॉर्म नंबर 8 के लिए बनाए जा रहे शेड की वेल्डिंग में लगे कारीगर। इस काम में ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। - Dainik Bhaskar
प्लेटफॉर्म नंबर 8 के लिए बनाए जा रहे शेड की वेल्डिंग में लगे कारीगर। इस काम में ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है।
  • केस कम होते ही फिर लौटाई, कई काम एकसाथ शुरू

कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम होने से अब रेलवे के निर्माण कार्य भी अनलॉक हो गए हैं। अब रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म के साथ पैसेंजर एमीनिटीज सेंटर के काम में तेजी आने के आसार हैं। काेराेना की पहली लहर में मजदूरों के पलायन और दूसरी लहर में ऑक्सीजन नहीं मिलने से निर्माण कार्य बंद हो गए थे। डीआरएम का कहना है कि अब जबकि ऑक्सीजन की सप्लाय भी सामान्य होने लगी है ऐसे में जिम्मेदारों को निर्माण कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। उम्मीद है दिसंबर तक सभी काम पूरे कर लिए जाएंगे।
रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म नंबर 7 को नया रूप दिया जा रहा है। यह काम भी कोरोना के कारण प्रभावित हुआ था लेकिन अब इसमें भी तेजी आएगी। यहां पर फर्श बनाने का काम अंतिम दौर में चल रहा है। प्लेटफॉर्म नंबर 8 को नागदा की ओर लिंक किया जाएगा। यहां के लिए शेड बनाए जा रहे हैं। इन दो नए प्लेटफार्म का फायदा यह होगा कि ट्रेन के स्टेशन पर खड़े होने के कारण यहां पहुंचने वाली अन्य ट्रेनों को आउटर पर नहीं रोकना पड़ेगा।
निर्माण में आएगी तेजी
डीआरएम विनीत गुप्ता के अनुसार कोरोना की वजह से निर्माण कार्य ठप हो गए थे, अब जबकि धीरे-धीरे सब अनलॉक होने लगा है। ऐसे में निर्माण कार्य के लिए जरूरी ऑक्सीजन के साथ अन्य सामान की उपलब्धता भी होने लगी। इससे रुके कामों में तेजी आएगी।

10 करोड़ रुपए से पैसेंजर एमीनिटीज सेंटर बनाएगा
रेलवे स्टेशन पर एस्केलेटर के सामने खुली जमीन पर रेलवे 10 करोड़ रुपए से पैसेंजर एमीनिटीज सेंटर यानी यात्री सुविधा सेंटर का निर्माण कर रहा है। इसका काम दिसंबर 2021 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा है। डीआरएम के अनुसार यहां पर बड़ी संख्या में यात्रियों के ठहरने के साथ उनके खाने-पीने और मनोरंजन का इंतजाम भी होगा।

उन्हें एक ही स्थान पर वह सभी सुविधाएं मिलेंगी जिसके लिए उन्हें स्टेशन के बाहर जाना पड़ता था। उन्होंने गुरुवार को भवन का निरीक्षण किया। डीआरएम ने निर्माण एजेंसी के साथ रेलवे के अफसरों को गुणवत्ता से काम करने और समय सीमा का ध्यान रखने के निर्देश दिए।

फर्स्ट फ्लोर पर रिटायरिंग, सेकंड पर वेटिंग रूम
डीआरएम का कहना है कि यह इस भवन के ग्राउंड फ्लोर पर फर्स्ट क्लास, एसी के साथ जनरल वेटिंग रूम रहेगा। फर्स्ट फ्लोर पर रिटायरिंग रूम और सेकंड पर ऑफिसर्स वेटिंग रूम बनाया जाएगा। कोरोना के कारण इसका काम प्रभावित हुआ है। अब इसमें गति आएगी। इसे नवंबर-दिसंबर तक बनाया जाएगा।

नए बिल्डिंग को इस तरह डिजाइन किया जाएगा कि बाहर से आने वाले यात्रियों को यहीं पर उज्जैन शहर के बारे में पता चल जाएगा। इसके मायने यह हैं कि जिस तरह प्लेटफॉर्म नंबर एक पर गुरु सांदीपनि, सम्राट विक्रमादित्य, जंतर-मंतर के चित्र बनाए हैं ठीक उसी तरह नए भवन में प्रवेश लेकर अंदर के कक्षों में उज्जैन के धार्मिक और दर्शनीय स्थलों के दर्शन होंगे।

ये सुविधाएं मिलेंगी : हाल्ट करने वाले यात्रियों के लिए कमरे बनेंगे

पीने का पानी : आरओ के साथ ठंडा और सादा पानी भी उपलब्ध होगा। वर्तमान में प्लेटफॉर्म पर लगे नलों से पानी लेना पड़ता है। विश्राम गृह : यात्रियों के लिए एक कॉमन हॉल होगा। साथ ही लंबी दूरी के बीच हाल्ट करने वालों के लिए कमरे भी बनाए जाएंगे। फूड कोर्ट : रियायती मूल्य पर खाना उपलब्ध कराने के लिए फूड कोर्ट बनाया जाएगा। पार्सल सुविधा मिलेगी। बुकिंग सेंटर : ऑनलाइन के साथ ऑफ लाइन टिकट बुकिंग के लिए एक ही छत के नीचे सुविधा मुहैया करवाई जाएगी। वाई-फाई : इंटरनेट कनेक्टिविटी के लिए फ्री वाई-फाई की सुविधा भी इस केंद्र में उपलब्ध करवाई जाएगी। लगैज रूम : विश्राम करने वाले यात्रियों के लिए एक कॉमन लगेज रूम बनाने की योजना भी है।

खबरें और भी हैं...