पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पाटीदार अस्पताल अग्निकांड:इंदौर में भर्ती एक और सेवानिवृत्त प्रिंसिपल की भी मौत

उज्जैन9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऋषिनगर निवासी मृतका के पुत्र ने कहा- पुलिस की लगाई धारा से संतुष्ट नहीं, डीजीपी से शिकायत करूंगा, गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज हो तभी मां की आत्मा काे शांति मिलेगी

फ्रीगंज पाटीदार अस्पताल में लगी भीषण आग के पांचवे दिन झुलसी एक और कोविड मरीज की मौत हो गई। इंदौर के निजी अस्पताल में उनका इलाज जारी था लेकिन आग में झुलसने के बाद सावित्री देवी श्रीवास्तव और कन्हैयालाल चौऋषिया की तरह उज्जैन लक्ष्मीनगर निवासी सेवानिवृत्त प्रिंसिपल नीला पटेल की मौत की वजह भी फेफड़ों में धुआं घुसना ही रहा। तीन मरीजों की जान लेने वाले अस्पताल प्रबंधन पर अभी तक सिर्फ जो केस दर्ज हुए वे सब थाने से जमानती धाराओं वाले हैं। रविवार दोपहर अस्पताल के आईसीयू में आग की चपेट में आई नीला पति मनु भाई पटेल 70 साल को भी इंदौर रैफर किया था। यहां उन्होंने चार दिन तक मौत से संघर्ष किया लेकिन हार गई। पाटीदार अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही से यह तीसरी जान गई है। इन सबके बावजूद अभी तक अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ कोई सख्त एक्शन नहीं लिया गया।

जिन धाराओं में दो केस दर्ज किए गए हैं वे सभी जमानती अपराध है। अस्पताल प्रबंधक थाने से जमानत पर छूट जाएंगे। इसे लेकर मृतकों के परिजनों में गुस्सा है। इसके लिए वे सीएम हेल्प लाइन तक में शिकायत कर चुके हैं और आरोप यह लगाए जा रहे हैं कि पुलिस-प्रशासन कहीं अस्पताल प्रबंधन को बचा तो नहीं रहा है।
जरूरत पड़ी तो धारा बढ़ाएंगे

  • अस्पताल के अग्निकांड में जो नियमानुसार धारा बनती है वह सब लगाई है। मामला अभी जांच में है। जरूरत पड़ने पर और भी धाराएं बढ़ाएंगे। - अमरेंद्रसिंह चौहान, एडिशनल एसपी

गैर जमानती धारा में केस दर्ज नहीं किया, डीजीपी से मिलूंगा
ऋषिनगर निवासी निरीक्षक संजय श्रीवास्तव ने कहा कि मेरी मां सावित्री देवी की जान अस्पताल प्रबंधन की वजह से गई है। इसके लिए उसके खिलाफ जिस धारा में केस दर्ज होना चाहिए था वह माधवनगर पुलिस ने नहीं किया। इससे में संतुष्ट नहीं हूं। सीएम हेल्प लाइन में शिकायत कर दी है और अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया जाए इसके लिए मैं डीजीपी से भी जाकर मिलूंगा। यह सिर्फ लापरवाही नहीं बल्कि जानबूझकर की गई अनदेखी है जिसके लिए गैर जमानती धारा में केस दर्ज होना चाहिए।
दादी का ऑक्सीजन लेवल 97% होने पर भी पैसों के लिए आईसीयू में रखे रहे
लक्ष्मीनगर निवासी सेवानिवृत्त प्रिंसिपल नीला पटेल की गुरुवार शाम को इंदौर में मौत के बाद उनके पोते पुष्पकांत ने पाटीदार अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाए। कहा एक तारीख को दादी को अस्पताल में भर्ती कराया था। उनका ऑक्सीजन लेवल 97-98 होने के बाद भी अस्पताल प्रबंधन ने दादी को सिर्फ इसलिए जनरल वार्ड में शिफ्ट नहीं किया क्योंकि उनका पैसे का मीटर कम न हो जाए। पूरे अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर धारा में केस दर्ज करते हुए अस्पताल को सील किया जाना चाहिए। यह एक्शन शासन-प्रशासन लेगा तभी अन्य अस्पताल वाले सुधरेंगे, नहीं तो इस तरह के हादसे होते रहेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें