• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Children And Youth Are Wooing New Kites On Makar Sankranti, Know What The Collector Said For Sankranti

मोदी पतंग पहली पसंद:मकर संक्रांति पर नई पतंगें लुभा रही बच्चों-युवाओं को, जानिये कलेक्टर ने संक्रांति के लिए क्या कहा

उज्जैन12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

महाकाल की नगरी उज्जैन में पतंगबाजी के शौकीन संक्रांति के दिन जमकर पतंग उड़ाते हैं। यहां एक हफ्ते में 40 लाख रुपए का पतंग का मार्केट है, लेकिन कोरोना की तीसरी लहर के कारण पतंग खरीदने वालों में उत्साह कम दिखाई दे रहा है।

जो लोग पतंग लेने आ रहे है वो मोदी के फोटो वाली पतंग की डिमांड कर रहे हैं। संक्रांति पर्व के के लिए शहर के तोपखाना और फ्रीगंज क्षेत्र में सबसे ज्यादा पतंगे बिकती हैं। मार्केट में रंग-बिरंगी बच्चों-युवाओं, बुजुर्गों व समाज के हर वर्ग को अलग-अलग संदेश व समाज को जागरूक करने वाली पतंगों का बोलबाला है।

व्यापारी गुजरात के अलावा जयपुर व आगरा से भी पतंग वा मांजा लाए हैं। बाजार में रामपुरी, जयपुरी प्लास्टिक की पतंगें पहली पसंद हैं। बरेली का मांजा भी डिमांड में है।

व्यापारियों का कहना है कि उत्साह कम है क्योंकि कोरोना की वजह से मार्केट डाउन है। पतंग भी कम आई है। महंगाई की वजह से 60 रुपए कोड़ी की पतंग 100 रुपए में लेना पड़ रही है। कोरोना के कारण व्यापारियों को मार पड़ी है। जिसके कारण पतंगों की बिक्री आधी रह गयी है।

संक्रांति स्नान प्रतिबंधित -

शुक्रवार को मकर संक्रांति पर शिप्रा नदी में होने वाले नहान को लेकर कलेक्टर आशीषसिंह ने गाइड लाइन जारी करते हुए नदी के सभी घाटों पर नहान पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया है। साथ ही रामघाट सहित अन्य घाटों पर नहान वाली जगह को बैरेकेटिंग कर रोक दिया गया है। ताकि कोई भी श्रद्धालु संक्रांति पर नहान करने नदी तक नहीं पहुंचे।

घर पर ही रहकर मनाएं संक्रांति -

कलेक्टर आशीष सिंह ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए सभी अपने घर पर रहकर ही पर्व मनाएं। कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वेरिएंट के बढ़ते खतरे के मद्देनजर राज्य शासन ने इससे बचाव के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं। इसलिए सामूहिक रूप से इकट्ठा होने के बजाय अपने-अपने घरों से ही पर्व को मनाएं।