पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Consumption In Epidemic Increases Three Times At Indore Road Plant Supplying 200 Cylinders Per Day

पांच दिन से सुधरने लगे हालात:200 सिलेंडर प्रतिदिन सप्लाई वाले इंदौर रोड प्लांट पर महामारी में खपत तीन गुना बढ़ी

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अब मरीजों के लिए 8 टन रोज सप्लाई हो रही ऑक्सीजन
  • मरीजों तक ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए दिन-रात चल रहा काम

ऑक्सीजन सिलेंडर के भरोसे अब मरीजों की सांसें चल रही है। इसकी वजह से पहली बार ऑक्सीजन प्लांटों पर सामान्य दिनों की अपेक्षा ऑक्सीजन सिलेंडर की डिमांड तीन गुना बनी हुई है। इसकी पूर्ति के लिए ऐसा पहली बार है जब प्लांट भी 24 घंटे चालू है और लोगों को सांसें देने के लिए दिन-रात पूर्ति की जा रही है। इन सबके बीच राहत भरी खबर यह है कि ऑक्सीजन के लिए आपाधापी कम हुई है। हालत संभलने लगे हैं।

इंदौर रोड राघौ पिपलिया स्थित प्रदीप गैस प्लांट पर मंगलवार दोपहर पुलिस पहरे में ही ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई जारी थी। यहां पहले जैसी भीड़ नहीं थी। लोग आ रहे थे और गाड़ियों में सिलेंडर लेकर जा रहे थे। प्लांट प्रबंधन ने बताया कि पांच दिन से लिक्विड भरपूर मिलने से ऑक्सीजन टैंक भी फुल हैं और इसी कारण प्रॉपर सप्लाई होने लगी है। हालांकि सप्लाई का काम तो 24 घंटे ही चल रहा है। प्रशासन की टीम भी यहां तैनात रहकर मॉनिटरिंग कर रही है। प्लांट के बाहर पुलिस की अस्थायी चौकी बना दी है, जहां एक एएसआई स्तर के अधिकारी समेत चार पुलिसकर्मी तीन शिफ्ट में तैनात रहते हैं। यहां तैनात एएसआई मालवीय के मुताबिक अब प्लांट पर ऐसी भीड़ नहीं कि कतार लगाना पड़े। तीन-चार दिनों से तो हम भी सुधार देख रहे हैं।

ताजपुर का प्लांट चालू होने से भी पूर्ति ज्यादा
शहर में अब दो ऑक्सीजन प्लांट काम कर रहे हैं। पहले इंदौर रोड के प्लांट से ही सप्लाई हो रही थी। अब ताजपुर का प्लांट भी शुरू करने से ऑक्सीजन की पूर्ति तेजी से होना शुरू हो गई है। इससे इंदौर रोड प्लांट का लोड कम होना भी एक वजह है। इसके अलावा इंदौर के आदर्श गैस प्लांट से भी प्रशासन द्वारा आपूर्ति कराई जा रही है। नतीजतन घर पर उपचाररत मरीजों के लिए भी लोग सिलेंडर आसानी से ले जा पा रहे हैं।

पहली बार 800 से 900 सिलेंडर सिर्फ मरीजों के लिए सप्लाई हो रहे
प्रदीप गैस के संचालक जयंत वेद ने बताया कि कई साल से ऑक्सीजन प्लांट संचालित कर रहे हैं। उनके प्लांट से सामान्य दिनों में 200 से 250 सिलेंडर की खपत थी। वह भी उद्योग और थोड़े-बहुत अस्पतालों को देते थे लेकिन ऐसा पहली बार देखा कि कुछ दिनों से 800 से 900 सिलेंडर सिर्फ मरीजों को ही लग रहे हैं। हमारे प्लांट की क्षमता 1300 टन है और वर्तमान में 800 टन रोज खपत हो रही है, जाे सामान्य दिनों से तीन गुना है। इसके लिए हम दिन-रात काम कर रहे हैं। पांच दिनों से लिक्विड की भरपूर आपूर्ति के चलते प्लांट का टैंक फुल है और सप्लाई तेजी से होने लगी है। वेद ने यह भी कहा कि भगवान से यही प्रार्थना कर रहे हैं कि ऐसा पैसा नहीं कमाना, बस हालात सुधर जाएं।

खबरें और भी हैं...