पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दुष्कर्म के आरोपियों को 12-12 साल की सजा:कोर्ट- दुष्कर्म से महिला का संपूर्ण जीवन प्रभावित होता है, समाज में उचित सम्मान नहीं मिलता

उज्जैन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो
  • दुष्कर्म के आरोपियों ने लगाई कोर्ट से गुहार- यह पहला अपराध है, कम से कम सजा दी जाए

बालिका का अपहरण कर दुष्कर्म करने वाले आरोपियों को कोर्ट ने 12-12 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है तथा 30 हजार का जुर्माना किया है। आरोपियों की ओर से कोर्ट में निवेदन किया कि यह उनका पहला अपराध है इसलिए न्यूनतम दंड से दंडित किया जाए। जिस पर कोर्ट ने अपनी टिप्पणी की कि दुष्कर्म से एक महिला का संपूर्ण जीवन प्रभावित हो जाता है। वह बहुत दीर्घकाल तक अपने सामान्य जीवन यापन में असमर्थ हो जाती है। साथ ही उक्त महिलाओं को सामाजिक दृष्टि में भी हेय समझा जाता है तथा उन्हें उचित सम्मान प्राप्त नहीं होता है।

ट्यूशन के लिए जा रही थी, आरोपियों ने चाकू दिखाया और बाइक पर बैठाकर ले गए
अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी मुकेश कुमार कुन्हारे ने बताया घटना 22 अगस्त 2015 की है। लड़की के माता-पिता ने बिरलाग्राम थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई कि उनकी लड़की स्कूल की छुट्टी होने के बाद ट्यूशन के लिए साइकिल से जा रही थी। काॅलोनी के तिराहे पर उसे मनीष एवं विनीत बाइक पर मिले। दोनों ने मेरी लड़की का रास्ता रोक लिया और आरोपी मनीष ने चाकू दिखाकर मेरी लड़की को अपने घर चलने के लिए कहा, मेरी लड़की चाकू देख डर गई। आरोपी मनीष ने चाकू दिखाकर गालियां दी तथा मेरी लड़की व उसकी बहनों को जान से मारने की धमकी देने लगा। मनीष मेरी लड़की को रतलाम लेकर चला गया।

मनीष ने घर के पीछे के दरवाजे से लड़की को घर के अंदर ले जाकर कमरे का दरवाजा बंद कर अंदर से ताला लगा दिया। विनीत घर के बाहर खड़ा था। लड़की के चिल्लाने पर मनीष ने मोबाइल पर तेज आवाज में गाना लगा दिया। मनीष ने लड़की के साथ मारपीट की। इसके बाद मनीष ने मेरी लड़की का मुंह दबाकर दो बार दुष्कर्म किया। मनीष ने मेरी लड़की को धमकी दी कि घटना के बारे में किसी को बताया तो जान से खत्म कर दूंगा। आरोपी मनीष मेरी लड़की को कमरे के बाहर निकाल दिया। मेरी लड़की बाहर सड़क पर आई, जहां उसे मनीष के मामा मिले। उसने मेरी लड़की को मेरे घर पर छोड़ा।

अलग-अलग धाराओं में दर्ज किया था प्रकरण
पीड़ित के माता-पिता की रिपोर्ट पर थाना बिरलाग्राम द्वारा रिपोर्ट दर्ज कर आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में अभियोग पत्र पेश किया। न्यायालय अभिषेक सक्सेना, अतिरिक्त अपर सत्र न्यायाधीश एवं विशेष न्यायाधीश, नागदा के न्यायालय ने आरोपी मनीष पिता ओंकारलाल व विनीत पिता मदनलाल तहसील नागदा को धारा 376(2)एन भादवि में 12-12 साल का कारावास एवं धारा 363, 366 भादवि में 03-03 साल कारावास एवं आरोपी मनीष को धारा 506 भादवि में एक साल सश्रम कारावास एवं धारा 342 में 6 माह सश्रम कारावास एवं दोनों पर 30 हजार रु. अर्थदंड किया। प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी एजीपी रेवतसिंह ठाकुर, सहायक जिला अभियोजन अधिकारी ने की।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें