पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दुष्कर्मी को 10 साल की सजा:कोर्ट ने कहा- महिलाओं के खिलाफ अपराध सामाजिक ताने-बाने को विचलित करते हैं

उज्जैन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अदालत ने रेप के आरोपी को सुनाई 10 साल की सजा। - Dainik Bhaskar
अदालत ने रेप के आरोपी को सुनाई 10 साल की सजा।
  • 25 माह पहले 14 साल की बच्ची का अपहरण के बाद रेप में कोर्ट ने सुनाया फैसला
  • साथ देने वाले मुख्य आरोपी के दोस्त को भी तीन साल की सजा

उज्जैन में 14 साल की किशोरी का अपहरण कर रेप करने वाले आरोपी को अदालत ने 10 साल की सजा सुनाई है। अपहरण में साथ देने वाले दोस्त को भी तीन साल की सजा भुगतनी होगी। अदालत ने दोनों पर पांच हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। अदालत ने बचाव पक्ष के वकील के उस तर्क को खारिज कर दिया, जिसमें उनका कहना था कि यह आरोपियों का पहला अपराध है। लिहाजा, आरोपियों के प्रति अदालत उदारता बरते। अदालत ने टिप्पणी की कि महिलाओं के विरुद्ध अपराध सामान्य अपराध की तरह नहीं होते, सामाजिक अपराध होते हैं। यह पूरे सामाजिक ताने-बाने को विचलित कर देते हैं।

यह है मामला

धार जिले के बदनावर का एक परिवार वर्ष 2018 में दीपावली के बाद मजदूरी करने उज्जैन आया था। नानाखेड़ा थाना क्षेत्र में किराए पर रहकर मजदूरी करता था। परिवार के मुखिया ने 22 फरवरी 2018 को थाने पर रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसकी पत्नी और दूसरे नंबर की बेटी साथ में सो रहीं थीं। सुबह होने पर बेटी घर से गायब थी। पास-पड़ोस में खोजबीन की लेकिन बेटी का पता नहीं चला। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर तफ्तीश शुरू की, तो पता चला कि धार जिले के बदनावर निवासी गोपाल पिता भैरूलाल और जुवार सिंह किशोरी का अपहरण कर ले गए हैं।

पॉक्सो और बलात्कार की धाराओं में केस दर्ज हुआ

पुलिस ने तफ्तीश के दौरान ही किशोरी को बरामद कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। किशोरी की मेडिकल जांच में रेप की पुष्टि होने पर गोपाल के खिलाफ 5 (एल)/6 पॉक्सो एक्ट, आईपीसी की धारा 376(2)(एन), 376(2) (आई), 363, 366 और 344 और जुवार के खिलाफ 363 के तहत रिपोर्ट दर्ज की थी।

अदालत ने बचाव पक्ष की दलीलों को खारिज कर दिया

अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी करने वाले उप संचालक डॉ साकेत व्यास ने बताया कि बचाव पक्ष के वकील ने आरोपियों का पहला अपराध होने और आयु को ध्यान में रखते हुए अदालत से उदारता बरतने की अपील की थी लेकिन कोर्ट ने उनकी दलीलों को खारिज कर दिया। सभी धाराओं में मिली सजा एक साथ चलेगी।

जानिए किस धारा में कितनी सजा मिलेगी

  1. 5 (एल)/6 पॉक्सो एक्ट और आईपीसी की धारा 376(2)(एन) में 10 साल।
  2. धारा 376(2) (आई) में 10 साल।

धारा 363 में तीन साल, धारा 366 में सात साल और धारा 344 में एक साल।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

और पढ़ें