संयम ही बचाएगा / खुलने के 32 दिन बाद फिर लॉक हो गया था देपालपुर, एक चूक छीन सकती है हमारी छूट

Depalpur was locked again after 32 days of opening, our missed may take a miss
X
Depalpur was locked again after 32 days of opening, our missed may take a miss

  • बिना मास्क के घर से न निकलें, अन्य लोगों से दूरी बनाए रखें
  • क्योंकि देपालपुर के लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया
  • बड़नगर के लोगों से वहां फैला संक्रमण

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

उज्जैन. शनिवार से दो दिन के लिए शहर में लागू लॉकडाउन में ढील देकर बाजार खोले जा रहे हैं। इस छूट का शहर के लोग समझदारी से उपयोग कर आगे भी जारी रख सकते हैं। एक जून से बाजार खुलने की यह छूट आगे बढ़ाई जा सकती है, बशर्ते हम खुद की जान की परवाह करें, प्रशासन के नियमों का पालन करें और कोरोना से खुद को, अपने परिवार को और शहर को सुरक्षित रखें। 
यदि हमने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया, मास्क नहीं पहना तो संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में प्रशासन को फिर शहर बंद करना पड़ेगा। तब लाॅकडाउन-5 के लिए हम ही जिम्मेदार होंगे। 

नागदा में जिस दिन बाजार खोलने थे, उसी दिन आबकारी सब इंस्पेक्टर पॉजिटिव निकल गया, दो दिन टालना पड़ा निर्णय

हमारे सामने नागदा और देपालपुर का उदाहरण है, जिनकी गलतियों से हम सीख ले सकते हैं। देपालपुर में जब 25 अप्रैल तक कोई भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं मिला तो यहां के बाजार खोल दिए गए, जो पूरे 32 दिन खुले रहे। लॉकडाउन में छूट देते हुए 17 मई से फुटवेयर और कपड़ा बाजार भी खोल दिया। इस बीच बड़नगर के लोग यहां खरीदी करने पहुंचे, जो संक्रमित थे।

देपालपुर तहसील के लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया। नतीजा तीन पॉजिटिव मरीज मिले। इसके बाद बाजार बंद कर दिए गए। अब यहां किराना, दूध डेयरी भी बंद है। इधर नागदा में 26 मई को बाजार खोले जा रहे थे। उसी दिन आबकारी सब इंस्पेक्टर कोरोना पॉजिटिव हो गए। उनकी कांटेक्ट हिस्ट्री पता की तो वे नागदा में कई जगह गए थे। ऐसे में मार्केट खोलना असंभव हो गया। जब उनके संपर्क में आए लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई तो फिर 28 मई से बाजार खोले जा सके।  

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना