बिजली कंपनी का एक और कारनामा:तीन दिन में डबल बिलिंग; पहले एवरेज फिर रीडिंग के बिल जारी कर दिए

उज्जैन4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बिजली बिलों की राशि को लेकर बिजली कंपनी का एक और कारनामा सामने आया है। जिसमें लोगों को तीन दिन के भीतर ही डबल बिलिंग कर दी गई। पहले उपभोक्ताओं को एवरेज बिल जारी कर दिए गए और उसके बाद रीडिंग के बिल थमा दिए, वह भी कम्प्यूटर प्रिंट का। इसको लेकर लोग हैरान हैं। एवरेज बिल की राशि भी लोग जोन कार्यालय के केश काउंटर पर जमा कर चुके हैं।

मामला पूर्व शहर संभाग के अंतर्गत महानंदा नगर जोन का है। यहां लोगों को एवरेज बिल जारी कर दिए। लोगों ने बिल की राशि जोन पर जमा कर दी। भास्कर ने यह मामला प्रमुखता से प्रकाशित किया तो बिजली कंपनी को अपनी गलती का अहसास हुआ और लोगों के यहां पर मनमानी रीडिंग दर्शाते हुए फिर से बिल जारी कर दिए। जिसको लेकर लोगों ने आपत्ति जताई कि वे तो बिल की राशि जमा कर चुके हैं फिर बिल क्यों जारी किया गया।

कोरोना की दूसरी लहर के बाद से उज्जैन में लोग बिलों को लेकर परेशान हैं। महानंदा नगर जोन के प्रभारी रिंकेश सिंह का कहना है घर-घर मीटर रीडिंग करवाई जा रही है और उसके तहत ही बिल जारी किए जा रहे हैं। क्यू आर सिस्टम का पालन किया जा रहा है।

बिजली कंपनी के अधिकारियों ने मनमानी रीडिंग पर रोक लगाने के लिए क्यूआर कोड सिस्टम लागू किया और स्मार्ट मीटर लगाने पर जोर दिया, उसके बाद भी उपभोक्ताओं को एवरेज बिलिंग की जा रही है या रीडर अपनी मर्जी से ही रीडिंग दर्ज कर रहा है। ऐसे में लोगों को वास्तविक खपत के बिल नहीं मिल पा रहे हैं। विद्युत नियामक आयोग के भी आदेश हैं कि उपभोक्ताओं को रीडिंग के बिल दिए जाएं यानी उनके यहां पर जितनी बिजली की खपत हुई है।

उतनी यूनिट के बिल जारी किए जाएं। आउटसोर्स के तहत रखे गए मीटर रीडर बिल बुक में मन से ही रीडिंग दर्ज कर रहे हैं। इस तरह के लगातार मामले सामने आ रहे हैं, बावजूद इसके अधिकारी रोक नहीं लगा पा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...