पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भादौ माह में सोमवती स्नान:सोमवती अमावस्या पर प्रतिबंध के बाद भी श्रद्धालु रामघाट पर स्नान करने पंहुचे

उज्जैन15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सोम कुंड पर प्रशासन ने फव्वारे लगवाए, व्रत-उपवास और आराधना के लिए श्रेष्ठ है यह महीना

सोमवार को सोमवती अमावस्या पर प्रतिबंध के बावजूद बड़ी संख्या में श्रद्धालु शिप्रा स्नान के लिए पहुंचे। श्रद्धालुओं ने राम घाट पर पहुंचकर शिप्रा नदी में डुबकी लगाई। जबकि प्रशासन ने एहतियात के तौर पर फव्वारे लगवा दिए थे, पर उसमें कम ही लोगों ने स्नान किया। एक दिन पहले प्रशासन ने शिप्रा नदी में स्नान पर प्रतिबंध लगा दिया था।

श्रद्धालु नदी में स्नान न करें इसलिए प्रशासन ने यहां फव्वारे लगवा दिए थे।
श्रद्धालु नदी में स्नान न करें इसलिए प्रशासन ने यहां फव्वारे लगवा दिए थे।

शिप्रा के सोम कुंड घाट पर स्नान के लिए प्रशासन की ओर से रविवार को ही व्यवस्था कर दी थी। वहीं सोमवार सुबह से ही शिप्रा के रामघाट पर स्नान शुरू हो गया था। सोम तीर्थ कुंड पर ग्रामीण क्षेत्र के गिनती के श्रद्धालुओं ने स्नान किया। रामघाट पर भी अमावस्या का नहान करने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु राम घाट पंहुचे थे।

सोमवती अमावस्या का महत्व -

भादौ मास में आने वाली अमावस्या का विशेष महत्व है। ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि सोमवार को अमावस्या प्रात: 7 बजकर 41 मिनट से प्रारम्भ होगी जो 7 सितंबर मंगलवार को प्रात: 6 बजकर 21 मिनट तक रहेगी। इसलिए सोमवार के दिन सोमवती अमावस्या नहीं मानी जाएगी। अमावस्या का पर्व दो दिन माना जाएगा। जो लोग अमावस्या पर अपने पितरों को धूप आदि देते हैं वे सोमवार को उनके निमित्त धूप ध्यान तर्पण कर सकते हैं। सोमवार को कुश ग्रहणी अमावस्या भी है। इस दिन का बड़ा महत्व है। इस दिन एकत्रित की गई कुशा का ब्राह्मण एवं अन्यजन वर्ष भर देव एवं पित्र कार्य में प्रयोग करते हैं।

इस महीने कई व्रत और पर्व रहेंगे

इस महीने में हरतालिका तीज व्रत 9 सितंबर गुरुवार, श्री गणेश चतुर्थी 10 सितंबर शुक्रवार, ऋषि पंचमी 11 सितंबर शनिवार, तेजा दशमी 16 सितंबर गुरुवार, डोल ग्यारस 17 सितंबर शुकवार, प्रदोष 18 सितंबर शनि प्रदोष व्रत, अनंत चतुर्दशी 19 सितंबर रविवार और पूर्णिमा 20 सितंबर सोमवार को श्राद्ध पक्ष प्रारम्भ होकर प्रथम दिन पूर्णिमा का श्राद्ध होगा।

खबरें और भी हैं...