• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Every 7 8th Patient Of Dengue Needs Platelets, 550 Units Available In Blood Bank But Lack Of Fresh Blood

नया संकट:डेंगू के हर 7-8वें मरीज को प्लेटलेट्स की जरूरत, ब्लड बैंक में 550 यूनिट उपलब्ध लेकिन ताजे खून की कमी

उज्जैन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ब्लड डोनेट करता युवक। - Dainik Bhaskar
ब्लड डोनेट करता युवक।
  • जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या 567 हुई, ब्लड बैंकों में प्लेटलेट्स के लिए डिमांड बढ़ी

जिले में डेंगू के मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ने के बीच प्लेटलेट्स की डिमांड बढ़ गई है। हर सातवें-आठवें मरीज को प्लेटलेट्स चढ़ाना पड़ रहे हैं। जिला अस्पताल की ब्लड बैंक में 550 यूनिट से ज्यादा ब्लड होने के बावजूद ताजे ब्लड की शार्टेज है। सुबह डिमांड करने पर शाम तक या 24 घंटे बाद प्लेटलेट्स उपलब्ध हो पा रहे हैं। ताजे ब्लड की शार्टेज के चलते मरीजों के परिजनों को डोनर साथ ले जाना पड़ रहा है।

बढ़ते मरीजों के बीच जिले में हर रोज 35 से 40 यूनिट प्लेटलेट्स की आवश्यकता पड़ रही है। इसमें मुश्किल यह है कि ताजे ब्लड की उपलब्धता नहीं होने से मरीजों को प्लेटलेट्स नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसे में मरीज के परिजन प्लेटलेट्स के लिए एक ब्लड बैंक से दूसरी ब्लड बैंक के चक्कर लगाने का मजबूर हो रहे हैं। जिले में डेंगू के मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 567 के पार हो गया है। प्लेटलेट्स के लिए मरीज जिला अस्पताल की ब्लड बैंक, आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज अस्पताल और पुष्पा मिशन हॉस्पिटल की ब्लड बैंक पर निर्भर हैं।

उदाहरण : बेटे के प्लेटलेट्स 22 हजार हुए तो पिता ब्लड बैंक के चक्कर लगाते रहे
1 तुलसीनगर में रहने वाले जैन परिवार के 10 साल के पुत्र को डेंगू होने पर चरक के शिशु वार्ड में भर्ती किया था। उसके प्लेटलेट्स घटकर 22 हजार रह गए। प्लेटलेट्स के इंतजाम के लिए पिता एक ब्लड बैंक से दूसरी ब्लड बैंक के चक्कर लगाते रहे। रात होने से उन्हें डोनर भी नहीं मिल पा रहे थे। रात में उन्हें कहीं से भी प्लेटलेट्स नहीं मिल पा रहे थे। तड़के करीब 4 बजे एक युवक मिला, जो ब्लड देने को तैयार हो गया, जिसे ब्लड बैंक ले जाया गया।

2 चौमेला के रहने वाले मरीज के परिजनों को भी परेशान होना पड़ा। मरीज के प्लेटलेट्स घटकर 20 हजार रह गए थे। परिवार के लोग प्लेटलेट्स के लिए भटकते रहे। लंबे प्रयासों के बाद बी पॉजिटिव का डोनर मिल पाया। डेंगू के बढ़ते मरीजों के चलते प्लेटलेट्स की व्यवस्था सुचारु होना चाहिए ताकि मरीजों को समय पर प्लेटलेट्स चढ़ाए जा सके।

ये कर रहे...50 हजार से कम पर ही चढ़ाए जा रहे प्लेटलेट्स

शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. रवि राठौर का कहना है 50 हजार के कम प्लेटलेट्स होने पर प्लेटलेट्स चढ़ाए जा रहे हैं। ज्यादा बीमार बच्चों को दो यूनिट तक प्लेटलेट्स चढ़ाना पड़ते हैं। ऐसे मरीज जिन्हें बुखार नहीं है और भूख लग रही है, उन्हें प्लेटलेट्स की जरूरत नहीं।

अमला कम...टेक्निशियन की कमी, प्लेटलेट्स कार्य प्रभावित

ब्लड बैंक के लैब टैक्निशियन सैंपलिंग में लगे होने से टैक्निशियन की कमी हो गई है। डेंगू के मरीजों के लिए प्लेटलेट्स की डिमांड बढ़ने से यहां दो-तीन टैक्निशियन की आवश्यकता है। लैब टैक्निशियन की कमी के चलते प्लेटलेट्स तैयार करने का कार्य प्रभावित हो रहा है।

ब्लड बैंक प्रभारी बोलीं- एक्स्ट्रा प्लेटलेट्स भी तैयार कर रहे

जिला अस्पताल की ब्लड बैंक प्रभारी डॉ. संगीता गुप्ता का कहना है कि 24 घंटे ब्लड बैंक का संचालन किया जा रहा है। यहां 15 से 25 यूनिट प्लेटलेट्स की डिमांड हर रोज आ रही है। इसकी पूर्ति करने के साथ ही अतिरिक्त प्लेटलेट्स भी तैयार किए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...