पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किशोर न्याय अधिनियम के तहत पुनर्वास:मुसीबत में फंसे बच्चों की जानकारी दें, मिलेगी मदद

उज्जैन2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

माता-पिता के संक्रमित होने के चलते, अस्पताल में भर्ती होने या फिर अभिभावकों की मृत्यु के कारण जो बच्चे विपत्ति का सामना कर रहे हैं। जिनकी कोई देखभाल करने वाला नहीं है, ऐसे बच्चों की सहायता की जाना है। महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी गौतम अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार के निर्देश हैं कि इस तरह के विपत्तिग्रस्त बच्चों को तत्काल किशोर न्याय अधिनियम के तहत सहायता देकर पुनर्वास करवाया जाए।

ऐसे बच्चों की जानकारी क्षेत्र के आंगनवाड़ी केंद्र, चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 1098 या कार्यालय जिला बाल संरक्षण अधिकारी ए-11/20 बसंत विहार कॉलोनी नानाखेड़ा (0734-3510040) पर दी जा सकती है।

खबरें और भी हैं...