कलेक्टर की सख्ती का असर:सिंहस्थ 2016 के बाद बने मकान टूटना शुरू, मंगल कॉलोनी के तीन मकान गिराए

उज्जैन10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सिंहस्थ क्षेत्र में सिंहस्थ 2016 के बाद बने मकानों को तोड़ना शुरू कर दिया है। मंगल कॉलोनी के तीन व्यक्तियों को कॉलोनाइजर राजाराम पटेल, मुकेश पटेल महेश पटेल ने बीते दिनों राशि लौटा दी थी। इसके बाद गुरुवार से तीनों ने मकान तोड़ना शुरू कर दिए। मंगल कॉलोनी के रहवासी नीलम प्रजापत, सोरमबाई व बाबूलाल ने गुरुवार को अपने मकान तोड़ना शुरू कर दिए है। कलेक्टर आशीषसिंह इस मामले में लगातार सख्ती बनाए हुए हैं। उन्होंने साफ कह दिया है कि सिंहस्थ की एक इंच भी जमीन अतिक्रमण में नहीं जाने देंगे।

कलेक्टर आशीष सिंह के निर्देश पर सिंहस्थ 2016 के बाद सिहस्थ क्षेत्र में जिन कॉलोनाइजर ने कालोनिया काटी है उनके मकानों के अवैध हिस्से को ध्वस्त कर दिया गया है। उनके ऊपर एफआईआर दर्ज की गई है। कॉलोनाइजर जिला प्रशासन की कड़ी कार्रवाई से डर कर अब उनके द्वारा बसाई गई अवैध कॉलोनी के व्यक्तियों को भूखंड व मकान के पैसे वापस लौटा कर जमीन शासन को मुक्त कर के दे रहे हैं।

सिंहस्थ क्षेत्र में बने 300 मकान -
सिंहस्थ 2016 के बाद से अब तक सिंहस्थ क्षेत्र में 300 मकान बनकर तैयार हो गए हैं। कलेक्टर ने सभी को नोटिस जार कर दिए हैं। बीते दिनों रहवासियों ने दो दिनों तक कलेक्टर कार्यालय के सामने कांग्रेस के साथ मिलकर प्रदर्शन भी किया था। लेकिन प्रशासन ने साफ कह दिया था कि जो भी नियमानुसार होगा कार्रवाई की जाएगी।

नरेंद्र गिरि ने भी किया था अतिक्रमण का विरोध -
सिंहस्थ क्षेत्र में अतिक्रमण को लेकर स्व. महंत नरेंद्र गिरि ने भी प्रशासन व सरकार के सामने मुद्दा उठाया था। उन्होंने यहां तक कहा था कि यदि इसी तरह से अतिक्रमण होता रहा तो सिंहस्थ उज्जैन के बाहर ही करना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...