पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

उज्जैन में चल रहा था फर्जी परामर्श केंद्र:पुलिस को मिली शिकायतें शिरीन तक कैसे पहुंची? काॅल डिटेल की जांच शुरू

उज्जैन8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महिल थाने और वन स्टॉप सेंटर पर शिकायत आने के बाद पीड़ितों को कॉल करती थी

पुलिस रिमांड का सुनकर अस्पताल में भर्ती हुई धोखाधड़ी की आरोपी शिरीन हुसैन की अस्पताल से छुट्टी होते ही पुलिस ने दोबारा पूछताछ शुरू कर दी। मंगलवार को उसके खिलाफ धोखाधड़ी का चौथा केस पंवासा थाना में दर्ज किया गया।

अभी तक के मामलों पर गौर किया जाए तो एक-दो को छोड़कर अधिकांश शिकायतें पुलिस थाने व वन स्टॉप सेंटर पर हुई लेकिन इनके बारे में शिरीन को पता चल जाता था और वह सीधे पीड़ितों से संपर्क कर अपने घर बुला लेती थी।

यह बड़ा सवाल है कि थाने पर होने वाली शिकायतों की जानकारी शिरीन को कौन दे रहा था, क्या सरकारी कर्मचारियों की भी इसमें उसके साथ मिलीभगत है। मक्सी रोड पंवासा कि वर्षा विश्वकर्मा ने पति से झगड़े का पहले महिला थाने में ही आवेदन दिया था।

इसके बाद शिरीन से संपर्क हुआ। वहीं बड़नगर के शहनाज बी ने भी बेटी के तलाक के मामले में सबसे पहले थाने में ही शिकायत की थी लेकिन इसके बाद पीड़ित पक्ष के पास फोन शिरीन का पहुंचा जिसने संबंधित पक्ष को अपने घर आदर्शनगर बुलाया।

वन स्टॉप सेंटर को दिया था आवेदन, घर पहुंची शिरीन
कृष्णा कॉलोनी निवासी आनंदिता का भी तलाक संबंधी आवेदन वन स्टॉप सेंटर को दिया था लेकिन इसके बारे में शिरीन को कैसे पता चला, शिरीन सीधे पीड़ित पक्ष के घर ही पहुंच गई। ऐसी कुछ घटनाएं पुलिस के लिए भी चौंकाने वाली है।
एसपी ने शुरू करवाई जांच, खुद के एजेंट रखने का शक
एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल अलग-अलग बिंदुओं पर जांच करवा रहे है। शिरीन की काॅल डिटेल की जांच भी कराई जा रही है। उससे लिप्तता रखने वाले भी नहीं बचेंगे। इस काम के लिए उसने महिला-पुरुषों को एजेंट तो नहीं रखा हुआ था इस बिंदु पर भी जांच जारी है।
शिरीन ने महिला एजेंट के माध्यम से शादी कराने के नाम पर वसूले 13 हजार रुपए
केस-1
जम्बूरा गांव के कन्हैयालाल माली ने पंवासा थाना पुलिस को बताया कृषि कार्य करता हूं। पत्नी से तलाक हो चुका है। एक बेटा है जिसके पालन-पोषण के लिए दूसरी शादी करना चाह रहा था। करीब दो महीने पहले करीब दो महीने पहले ताजपुर निवासी प्रेमलता के यहां कार्यक्रम में गया था। जहां प्रेमलता ने मुझे शिरीन हुसैन से मिलवाया। बोली मैडम मानव अधिकार की राष्ट्रीय महासचिव व विधिक काउंसलर है। बताया कि मैडम पारिवारिक मामले निपटाती है और लोगों की शादियां कराती है। जिसके बाद शिरीन ने मुझसे 13 हजार रुपए ले लिए व शादी नहीं कराई। रुपए वापस भी नहीं किए। बाद में पता चला कि प्रेमलता शिरीन की एजेंट है जो उसके पास केस लेकर जाती थी।
मामला-2
तलाक कराने के नाम पर महिला के परिवार से 25 हजार लिए, रुपए वापस मांगे तो धमकाया
कृष्णा कॉलोनी निवासी पंकज बामोरिया ने भास्कर को बताया बहन आनंदिता के तलाक को लेकर शिकायत की थी। इसके बाद फरवरी 2021 में मानव अधिकार की नेम प्लेट लगी कार से महिला घर आई। जिसने अपना नाम शिरीन बताया। बोली आप घबराओ मत मैं मदद करूंगी, फिर मानव अधिकार के कोरे लेटर पर साइन करवा लिए व दो बार में 5-5 हजार व तीसरी बार में 15 हजार रुपए इस तरह कुल 25 हजार रुपए वसूले। रुपए वापस मांगने पर शिरीन ने धमकाया कि किसी भी केस में फंसवा जेल में सड़वा देगी।

मकान भी ब्लैकमेलिंग से हड़पा, एएसपी बोले- रजिस्ट्री की भी जांच

बताते हैं कि देवास रोड आदर्शनगर निवासी शिरीन जिस मकान में रह रही है, वह भी उसने ब्लैकमेलिंग के माध्यम से हड़पा है। पुलिस को पता चला है कि उक्त मकान युवक को ब्लैकमेलर अपने नाम करवाया है। संबंधित युवक को ब्लैकमेल कर उसे जबरदस्ती पति बनाकर शिरीन अपने साथ रखती है।

​​​​​​​एएसपी अमरेंद्रसिंह चौहान ने बताया रजिस्ट्री की जांच करवा रहे है। यह भी पता चला है कि महिला ने पहले भी कुछ अन्य लोगों से शादी की व ब्लैकमेल कर छोड़ दिया। वर्तमान में जिस युवक को साथ रखे है उसका भी मोबाइल जब्त कर जांच करवा रहे हैं।
रिकॉर्डिंग और वीडियो की भी जांच
पुलिस के हाथ कुछ रिकॉर्डिंग और वीडियो भी लगे हैं। इनकी जांच की जा रही है। इस मामले में शिरीन से कई लोग जुड़े हुए थे। उनकी भूमिका सामने आने पर आरोपियों की संख्या बढ़ेगी।

खबरें और भी हैं...