पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • If You Want To Avoid The Third Wave, Then Take The Ride Of Mahakal On The Shorter Route, Devotees Should Not Enter.

भास्कर प्लान:तीसरी लहर से बचना है तो छोटे मार्ग पर निकालें महाकाल की सवारी, श्रद्धालुओं का प्रवेश नहीं हो

उज्जैन15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महाकाल मंदिर में बुधवार को श्रद्धालुओं की भीड़ दिनभर बनी रही। - Dainik Bhaskar
महाकाल मंदिर में बुधवार को श्रद्धालुओं की भीड़ दिनभर बनी रही।
  • उत्तर द्वार से निकाली जा सकती पालकी, दर्शन के लिए चार नंबर द्वार से प्रवेश और निर्गम

श्रावण और भादौ में भगवान महाकालेश्वर की निकलने वाली सवारियों का रूट पिछले साल की तरह छोटा रखा जाना चाहिए। सवारी में किसी भी श्रद्धालु को प्रवेश नहीं दिया जाना चाहिए। दर्शन के लिए ऑनलाइन प्री-परमिशन ही जारी रखी जा सकती है। श्रद्धालुओं के लिए जूता स्टैंड, क्लॉक रूम व अन्य काउंटर्स की सुविधाएं हरसिद्धि चौराहा क्षेत्र में की जाना चाहिए। नूतन स्कूल के सामने और नृसिंहघाट क्षेत्र में वाहनों की पार्किंग की व्यवस्था होना चाहिए।

महाकालेश्वर मंदिर में श्रावण में देश-विदेश से श्रद्धालुओं का आगमन होगा। अनलॉक-2 के बाद मंदिर में रोज 10 से 25 हजार श्रद्धालु दर्शन कर रहे हैं। हालांकि प्रशासन द्वारा ऑनलाइन प्री-परमिशन केवल 3500 श्रद्धालुओं को ही दी जा रही है। सशुल्क दर्शन और प्रोटोकॉल से भी श्रद्धालु दर्शन कर रहे हैं। शनिवार, रविवार और सोमवार को श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ रही है।

श्रावण-भादौ में यह संख्या बढ़ जाएगी। इसलिए प्रशासन को रोज आने वाले दर्शनार्थियों के अलावा शनिवार, रविवार और सोमवार के लिए पृथक व्यवस्था करना होगी। ज्यादा से ज्यादा श्रद्धालुओं को किस तरह दर्शन कराए जा सकते हैं, इस पर प्रशासन को फिर से निर्णय लेना होंगे।

दो कतारों से प्रवेश : नूतन स्कूल व नृसिंहघाट मार्ग पर पार्किंग

  • नूतन स्कूल व नृसिंहघाट मार्ग पर पार्किंग।
  • हरसिद्धि चौराहे पर जूता स्टैंड, क्लॉक रूम, प्रसाद और शीघ्र दर्शन काउंटर्स {हरसिद्धि चौराहे से बेरिकेडिंग में कतारें।
  • सामान्य श्रद्धालुओं को चार नंबर द्वार से प्रवेश।
  • शीघ्र दर्शन के लिए हाथी द्वार से प्रवेश
  • निर्गम चार नंबर द्वार से।
  • महाकाल-हरसिद्धि चौराहे के बीच दुकानें नहीं होना चाहिए।
  • तिलक लगाने, कलेवा बेचने वाले, भिक्षुक यहां नहीं रहें।
  • हरसिद्धि मार्ग, नृसिंहघाट मार्ग तथा हरसिद्धि चौराहे पर सूचना के बोर्ड लगाएं।

दो कतारों से प्रवेश : नूतन स्कूल व नृसिंहघाट मार्ग पर पार्किंग

  • नूतन स्कूल व नृसिंहघाट मार्ग पर पार्किंग।
  • हरसिद्धि चौराहे पर जूता स्टैंड, क्लॉक रूम, प्रसाद और शीघ्र दर्शन काउंटर्स
  • हरसिद्धि चौराहे से बेरिकेडिंग में कतारें।
  • सामान्य श्रद्धालुओं को चार नंबर द्वार से प्रवेश।
  • शीघ्र दर्शन के लिए हाथी द्वार से प्रवेश
  • निर्गम चार नंबर द्वार से।
  • महाकाल-हरसिद्धि चौराहे के बीच दुकानें नहीं होना चाहिए।
  • तिलक लगाने, कलेवा बेचने वाले, भिक्षुक यहां नहीं रहें।
  • हरसिद्धि मार्ग, नृसिंहघाट मार्ग तथा हरसिद्धि चौराहे पर सूचना के बोर्ड लगाएं।

3 ऑनलाइन लाइव प्रसारण :

  • सवारी का ऑनलाइन लाइव प्रसारण करें तथा इसका प्रचार करें।
  • शहर व आसपास के जिलों में सवारी में श्रद्धालुओं का प्रवेश नहीं होने की सूचनाओं का प्रसारण कराएं।
  • मंदिर की वेबसाइट और मोबाइल एप पर भी मंदिर में दर्शन व सवारी की व्यवस्था को लेकर सूचनाएं दें।
  • स्मार्ट सिटी द्वारा चौराहों व रास्तों पर लगाए एलईडी बोर्ड पर सूचनाएं व सवारी का प्रसारण।

वीवीआईपी प्रवेश वीवीआईपी व्यवस्था के लिए महाराजवाड़ा परिसर का उपयोग कर सकते हैं। महाकाल चौराहे से लाकर महाराजवाड़ा में पार्किंग। सतीमाता द्वार से सभा मंडप होकर दर्शन।

भास्कर पैनल- पं. प्रदीप गुरु, गिरीश जायसवाल (समाजसेवी), महेंद्र कटियार (भक्त मंडल), अजय तिवारी (व्यवसायी)

खबरें और भी हैं...