पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आनंदकों ने मनाया पौधों का जन्मदिन:पर्यावरण शुद्धि में बताया संगीत और मंत्र का महत्व

उज्जैन9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आनंद विभाग की वर्चुअल मिटिंग में विशेषज्ञों का पर्यावरण पर संवाद

राज्य आनंद संस्थान की उज्जैन आनंदक टीम की ओर से विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से पर्यावरण पर संवाद कार्यक्रम हुआ। शुभारंभ नीति टंडन ने प्रार्थना से किया। विशेषज्ञों ने पर्यावरण की शुद्धि में संगीत और मंत्र का महत्व बताया। आनंदक मुकेश शिंदे ने संगीत से शुद्ध पर्यावरण और आनंद आचार्य राघवकीर्ति ने जय गणेश मंत्र से शुद्ध पर्यावरण पर अपनी बात कही। कार्यक्रम में भोपाल से राज्य आनंद संस्थान के प्रवीण गंगराड़े शामिल थे।

उन्होने कहा उज्जैन आनंदक टीम बहुत अच्छा काम कर रही है तथा कोरोना के भीषण त्रासदी वाले समय में भी उज्जैन टीम ने अलग-अलग क्षेत्रों में उल्लेखनीय काम किए। आनंदकों में प्रमुख रूप से, डॉ. विमल गर्ग, प्रदीप महतो, ममता बैंडवाल, दिलीप मालवीय, तूफान सिंह, दिलीप निर्मल, प्रभा बैरागी, सावित्री महंत, सुकृति व्यास, श्रीराम जाट, अर्चना ज्ञानी, डॉ. सुमन जैन आदि मौजूद थे। ऑनलाइन संचालन डॉ. प्रवीण जोशी ने किया। आभार पीएल डाबरे ने माना।
पुरुषोत्तम सागर पौधारोपण कर उनका जन्मदिवस मनाया

जिले के आनंदको ने अपने-अपने व्यक्तिगत प्रयासों के साथ बगीचे, खुली जगह और नदी किनारे पौधे रोपने का काम किया । इस क्रम में पुरुषोत्तम सागर पर आनंदक टीम द्वारा पौधारोपण किया और पिछले वर्ष लगाए पौधे का जन्मदिवस मनाया। इस दौरान अनोखीलाल शर्मा, पराग अग्रवाल, संदीप ललावत, मनोहर, भरत कुमावत, प्रवीण पंडया आदि मौजूद थे।

परिजनों की स्मृति में लगा सकते हैं ओखरेश्वर तीर्थ क्षेत्र में पौधे, गड्‌ढे कर साफ-सफाई की
प्राचीन ओखरेश्वर श्मशान घाट परिसर पौधारोपण के लिए तैयार है। पौधे रोपने के लिए गड्‌ढे कर साफ-सफाई की गई है। आगामी समय में यहां करीब 500 पौधे लगाए जा सकेंगे। ट्रस्ट अध्यक्ष हिम्मत बागड़ी व सचिव दीपक सांखला के अनुसार स्वाभाविक, कोरोना या अन्य कारण से मृत्यु होने पर परिजन उनकी स्मृति में यहां पूर्व सूचना देकर पौधारोपण कर सकते हैं।

पौधे साथ में ला सकते हैं या यहां उपलब्ध भी रहेंगे। इच्छुक परिजन यहां कार्य देखने वाली श्री ओखरेश्वर श्मशान विकास समिति के सदस्यों से संपर्क कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...