• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • In The Court Case, The Registry Of The Property Will Be Zero, Here The UDA Made And Sold The Bungalows In Triveni Vihar And Also Did The Registry.

रजिस्ट्री शून्य:कोर्ट में मामला तो संपत्ति की रजिस्ट्री शून्य होगी, इधर यूडीए ने त्रिवेणी विहार में बंगले बनाकर बेच दिए और रजिस्ट्री भी कर दी

उज्जैन14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जबलपुर हाई कोर्ट ने कहा है कि सिविल कोर्ट में लंबित के दौरान विवादित संपत्ति बेची जाती है तो रजिस्ट्री स्वत: शून्य मानी जाएगी

संपत्ति से जुड़े प्रकरणों में कोर्ट में मामला पेंडिंग है और प्रॉपर्टी बेची जाती है तो उसकी रजिस्ट्री शून्य हो जाएगी। ट्रांसफर ऑफ प्रापर्टी एक्ट की धारा-52 के तहत ऐसी संपत्ति के विक्रय में यह प्रावधान पूरी तरह से लागू रहेगा। इस तरह के मामलों में अपील को कोर्ट में स्वीकार कर डिक्री पारित की जा सकेगी। ऐसे ही एक मामले में कोर्ट में प्रकरण लंबित होने के बीच में यूडीए ने त्रिवेणी विहार योजना में बंगले बनाकर लोगों को बेच दिए और रजिस्ट्री भी कर दी गई, जबकि जमीन का मामला कोर्ट में है। ऐसे ही संपत्ति से जुड़े एक मामले में जबलपुर हाई कोर्ट ने कहा है कि सिविल कोर्ट में लंबित के दौरान विवादित संपत्ति बेची जाती है तो रजिस्ट्री स्वत: शून्य मानी जाएगी।

गोयला खुर्द में स्थित जमीन का राजस्व विभाग द्वारा करवाए सीमांकन में जमीन किसान की पाई गई है। इसमें दो बीघा जमीन पर यूडीए ने निर्माण कर लिया है, जो कि खुद ही अतिक्रमण यानी अवैध निर्माण की श्रेणी में आ चुका है। यूडीए ने सीनियर एमआईजी बंगलों के समीप गोयला खुर्द में 13 बंगलों का निर्माण किया है। इनका आवंटन किया जाकर रजिस्ट्री भी कर दी है। यूडीए के भू-अर्जन अधिकारी संजय साध का तर्क है अवार्ड पारित होने के बाद ही संबंधित जमीन पर यूडीए ने आवासीय योजना त्रिवेणी विहार में निर्माण किया है। जमीन के सीमांकन और आदेश को लेकर एडीएम कोर्ट में आपत्ति लगाई जा चुकी है।

खबरें और भी हैं...