• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • In Ujjain's Sandipani Ashram, Apart From Burning To Protect God From Cold, Also Put On Warm Clothes

भगवान कृष्ण-बलराम को सर्दी लगी:उज्जैन के सांदीपनि आश्रम में भगवान को सर्दी से बचाने जलाया अलावा, गर्म कपड़े भी पहनाए

उज्जैनएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

लगातार कम हो रहे तापमान के कारण मंदिरों में भगवान की दिनचर्या में भी बदलाव किया गया है। दिवाली के एक दिन पहले रूप चौदस से भगवान महाकाल को गर्म पानी से स्नान कराया जा रहा है। देव उठनी ग्यारस के अगले दिन से भगवान कृष्ण की दिनचर्या भी बदल गई है। उन्हें गर्म दूध व भोजन परोसा जा रहा है तो सर्दी से बचने के लिए गर्म कपड़े पहनाए गए हैं। सिगड़ी में अलाव जलाकर सर्दी से बचाने के इंतजाम किए गए हैं।

कृष्ण के गुरु महर्षि सांदीपनि।
कृष्ण के गुरु महर्षि सांदीपनि।

दरअसल, आज से 5 हजार से भी ज्यादा वर्ष पहले भगवान कृष्ण उज्जैन में महर्षि सांदीपनि से शिक्षा लेने आए थे। तब उनकी उम्र 11 साल 7 दिन थी। इसलिए इस आश्रम में भगवान कृष्ण की बाल स्वरूप में सेवा की जाती है। यहां बाल भाव से ही भगवान की पूजा आदि की जाती है।

भगवान कृष्ण की गुरुमाता सुश्रुसा।
भगवान कृष्ण की गुरुमाता सुश्रुसा।

मंगलनाथ रोड स्थित सांदीपनि आश्रम में सर्दी शुरू होते ही बचाव के इंतजाम भी शुरू कर दिए जाते हैं। अब आश्रम में उनके सहपाठी मित्र सुदामा, गुरु सांदीपनि और गुरुमाता सुश्रुसा को गर्म कपड़े पहनाए जाएंगे। गर्म टोपा भी पहनाया जाएगा। इसके साथ ही आश्रम में भगवान कृष्ण की बाल स्वरूप प्रतिमा के सामने अंगिठी में अलाव लगाकर कमरे को गर्म रखा जाएगा। उन्हें गर्म दूध और भोजन ही परोसा जाएगा। यह सिलसिला सूर्य के उत्तरायण होने तक चलेगा। यानि मकर संक्रांति के अगले दिन से भगवान की दिनचर्या फिर सामान्य दिनों की तरह शुरू हो जाएगी।

मंदिर के पुजारी पं. रूपम व्यास ने बताया कि प्रति वर्ष अनुसार जैसे ही ठंड दस्तक देती है। वैसे ही, भगवान को यंहा पर ठण्ड से बचाने के लिए उपाय किये जाते हैं। श्री कृष्ण सहित बलराम और सुदाम भी यहां अपने बाल्यकाल में रहे थे। इसलिए सबकी बच्चों की तरह देखभाल की जाती है।

सांदीपनि आश्रम में भगवान श्री कृष्ण ने 64 दिनों में 64 कलाओं का ज्ञान महर्षि सांदीपनि से लिया था। सांदीपनि आश्रम में श्री कृष्ण, बलराम और सुदामा के साथ साथ महर्षि सांदीपनि की भी मूर्ति है जिनके दर्शन के लिए हजारों श्रद्धालु उज्जैन पहुंचते हैं।

12.5 डिग्री तक गिरा तापमान, अब बढ़ा
बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र से 24 घंटे में दिन का तापमान 1.7 डिग्री और रात का पारा 1.4 डिग्री बढ़ गया। इसके अलावा, अलसुबह और शाम ढलने के बाद फिलहाल ठंडी हवा के कारण ठंड का जरूर असर दिख रहा है।

10 नवंबर को न्यूनतम तापमान 13.5 11 नवंबर को न्यूनतम तापमान 12.8 12 नवंबर को न्यूनतम तापमान 12.5 13 नवंबर को न्यूनतम तापमान 13.5 14 नवंबर को न्यूनतम तापमान 13.6 15 नवंबर को न्यूनतम तापमान 15.0