• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Minister Said Planning Is Necessary For Kanh, Collector Said, After Next 6 Months Not Even A Drop Of Sewerage Water Will Be Available In Shipra

संतों के धरने पर पहुंचे मंत्री यादव और कलेक्टर:मंत्री ने कहा कान्ह के लिए योजना जरूरी, कलेक्टर बोले, अगले 6 माह बाद एक बूंद भी सीवरेज का पानी शिप्रा में नहीं मिलेगा

उज्जैन7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संतों के धरना समाप्त, ज्ञानदास का अनशन भी नारियल पानी पिलाकर खत्म करवाया

उज्जैन शिप्रा नदी किनारे दत्त अखाड़ा घाट पर शिप्रा शुद्धिकरण की मांग को लेकर धरने पर बैठे संतों को 6टे दिन मंत्री और अधिकारियों ने मना लिया। धरना स्थल पर पहुंचे मंत्री डॉ. मोहन यादव ने संतों को शिप्रा शुद्धिकरण का प्लान समझाया। जल्द ही सीएम और जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट से बात कर माँ शिप्रा को प्रदूषित रहित करने का आश्वासन दिया। जिसके बाद संतों ने धरना कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दिया है।

8 नवम्बर से शिप्रा शुद्धिकरण को लेकर धरने पर बैठे षट्दर्शन साधू समाज का धरना सोमवार को खत्म हो गया। धरने में बड़ी संख्या में साधु संत शिप्रा नदी में फैली गंदगी और प्रदूषित हो रही नदी के शुद्धिकरण को लेकर धरने पर बैठे थे। आज उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव सहित उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह, एडीएम संतोष टैगोर, एसडीएम संजय साहू संतों से मिलने पहुंचे।

यहां संतों ने शिप्रा नदी का पानी दिखाते हुए शिप्रा नदी के प्रदूषित होने की बात मंत्री यादव के सामने रखी। जिस पर यादव ने संतों को आश्वस्त किया कि चार दिन में प्लान बनाया जाएगा। साथ ही इंदौर और उज्जैन जिलों के अधिकारियों को प्लान बनाने का कहा है। इस बात पर संत समाज ने सहमति देते हुए धरना स्थगित कर दिया। इधर कलेक्टर आशीष सिंह ने भी संतों से बात की और शिप्रा नदी में मिल रहे नालों को रोकने का प्लान बताया। इसके बाद संतों ने अपना धरना स्थगित कर दिया। संत रामेश्वर दास ने कहा कि मंत्री और अधिकारियों ने प्लान बताया है। सीएम से मिलने की बात भी कही है। जल्द ही शिप्रा नदी में मिल रहे नाले और कान्ह नदी के गंदे पानी को मिलने से रोकने का आश्वासन हमें दिया है। जिसके बाद हमने धरना स्थगित कर दिया है।

इंदौर-देवास की नदियों का पानी कर रहा प्रदूषित - मंत्री यादव
उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि इंदौर देवास से आ रहा गन्दा पानी और उज्जैन के नाले शिप्रा नदी को प्रदूषित कर रहे हैं। इसके कारण पानी साफ नहीं हो पा रहा है। सीएम और मंत्री तुलसी सिलावट से बात हुई है। कान्ह नदी का पानी शुद्ध करके खेतों में देंगे, जिससे पानी शिप्रा तक नहीं पहुंचेगा। माँ शिप्रा का आँगन साफ होना चाहिए। कान्ह नदी के लिए दो जिले के अधिकारी प्लान बनाएंगे।

सीवरेज प्लान तैयार, 6 माह में सीवरेज का पानी नहीं मिलेगा -
सीवरेज के लिए प्लान तैयार है। अगले 6 माह में उज्जैन शहर के सीवरेज का एक भी बून्द पानी शिप्रा में नहीं मिलेगा। कान्ह नदी के लिए जरूर ठोस प्लान करने की जरूरत है।

मैं अभी भी अन्न नहीं लूंगा, योजना पूरी होने तक केवल फलाहार -
मंगलनाथ रोड पर भगवान अंगारेश्वर मंदिर के पास दादू आश्रम के संत ज्ञानदास भी शिप्रा नदी के शुद्धिकरण को लेकर अनशन पर थे। उन्होंने 16 नवम्बर से अन्न त्याग रखा था। मंत्री और अधिकारियों के आश्वासन पर ज्ञानदास महाराज ने अनशन खत्म किया। हालांकि उन्होंने कहा वे योजना पूरी होने तक फलाहार पर ही रहेंगे। अन्न अभी भी ग्रहण नहीं करेंगे। संत ज्ञानदास को कलेक्टर आशीष सिंह ने नारियल पानी पिलाकर अनशन खुलवाया।

खबरें और भी हैं...