• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • More Than Half The Principals Did Not Reply To The Notice, Instructions For Action Were Not Received

इंतजार:आधे से ज्यादा प्राचार्यों ने नहीं भेजा नोटिस का जवाब, कार्रवाई के निर्देश भी नहीं मिले

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मामला 10वीं और 12वीं में कमजोर रिजल्ट का, 15 दिन बाद भी जवाब का इंतजार

माशिमं की कक्षा 10वीं और 12वीं बोर्ड के परिणाम ने इस बार बेहद निराश किया है। समीक्षा करने के बाद 100 से अधिक शासकीय स्कूलों को कारण बताओ सूचना पत्र भी जारी किया जा चुका है लेकिन हैरानी वाली बात यह है कि 15 दिन बाद भी आधे से ज्यादा स्कूल प्रबंधनों की ओर से नोटिस का जवाब नहीं आया है।

जिले में 10वीं का औसत रिजल्ट इस वर्ष केवल 46.15 प्रतिशत ही रहा। इसमें भी शासकीय स्कूलों का औसत रिजल्ट 34.09 प्रतिशत ही रहा। वहीं 12वीं में जिले का औसत रिजल्ट 64.21 प्रतिशत और शासकीय स्कूलों का औसत रिजल्ट 56.22 प्रतिशत ही रहा।

जिला शिक्षा विभाग द्वारा 10 और 11 मई को कक्षा एवं प्रतिशतवार स्कूलों की समीक्षा भी की गई। अधिकांश प्राचार्यों ने कमजोर रिजल्ट के पीछे लगभग दो वर्ष कोरोना की वजह से कक्षाएं नहीं लगने का कारण बताया। समीक्षा के साथ ही स्कूलों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किए गए।

सात दिन के भीतर इन नोटिस का जवाब संबंधित स्कूल प्रबंधन को जिला मुख्यालय पर देना था लेकिन 25 मई तक आधे से ज्यादा स्कूल प्रबंधनों ने अपने जवाब प्रस्तुत नहीं किए। इधर कमजोर रिजल्ट देने वाले स्कूलों के प्राचार्य व संबंधित विषयों के शिक्षकों पर क्या कार्रवाई की जाना है, इसको लेकर भी स्थानीय स्तर पर अधिकारियों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है। क्योंकि विभागीय मुख्यालय से इस संबंध में अब तक कोई निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं।

सभी के जवाब और मुख्यालय से निर्देश मिलने के बाद होगी आगामी कार्रवाई

10वीं और 12वीं की परीक्षा में जिन शासकीय हाई स्कूल एवं हायर सेकंडरी स्कूलों के परीक्षा परिणाम कमजोर रहे हैं, उन स्कूलों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया था। अधिकांश स्कूलों से जवाब प्राप्त नहीं हुए हैं। कार्रवाई को लेकर भी निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं। सभी के जवाब आने आैर मुख्यालय से निर्देश मिलने के बाद मामले में आगामी कार्रवाई की जाएगी। गिरीश तिवारी, एडीपीसी

खबरें और भी हैं...