• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Mother Parvati Came Out For Immersion In Mahakal's Palanquin, Returned To Mahakal Temple After Immersion In Shipra

शिप्रा में संझा विसर्जन:महाकाल की पालकी में बैठकर संझा विसर्जन के लिए में निकलीं मां पार्वती, शिप्रा में विसर्जन के बाद लौटीं महाकाल मंदिर

उज्जैन19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

श्राद्ध पक्ष के 11वें दिन से 16वें दिन तक महाकाल मंदिर में मनाया जाने वाला उमा सांझी महोत्सव का समापन बुधवार को होने के बाद गुरुवार को संझा का विसर्जन किया गया। इस दौरान मां पार्वती की शाही सवारी पूरे ठाठ बाट से निकाली गई। उमा महेश की सवारी भगवान महाकाल की पालकी में ही निकाली गई। महाकाल मंदिर से शुरू होकर शिप्रा नदी पर पहुंचने के बाद संझा का विसर्जन कर सवारी वापस महाकाल मंदिर लौटी।

पालकी जैसे ही महाकालेश्‍वर मंदिर के मुख्य द्वार पर पहुंची, मध्य प्रदेश सशस्त्र पुलिस बल के जवानों के द्वारा श्री उमा माता को सलामी देने के बाद पालकी ने नगर भ्रमण की ओर प्रस्‍थान किया। पालकी में विराजित भगवान श्री उमा माता के दर्शन सवारी मार्ग के दोनों ओर खड़े श्रद्धालुओं ने किए।

नाव में बैठाकर संझा विसर्जन किया गया।
नाव में बैठाकर संझा विसर्जन किया गया।

पालकी में श्री उमा माता की चांदी की प्रतिमा व डोल रथ पर बने गरूड़ पर माताजी (पीतल की प्रतिमा) तथा भगवान श्री महेश विराजित होकर निकले। सवारी के साथ घुड़सवार, पुलिस बल तथा मंदिर के पुजारी-पुरोहित एवं श्रद्धालु भी शामिल थे। सवारी श्री महाकालेश्‍वर मंदिर से प्रारंभ होकर बडा गणेश मंदिर के सामने से होते हुए हरसिद्धि मंदिर के समीप से नृसिंह घाट रोड पर सिद्धआश्रम के सामने से शिप्रातट रामघाट पहुंची। रामघाट पर पूजन व संझा विसर्जन के पश्‍चात सवारी रामानुजकोट, हरसिद्धि पाल से हरसिद्धि मंदिर के सामने पहुँची। श्री हरसिद्धि मंदिर पर मंदिर के पुजारियों द्वारा माता उमा का पूजन-अर्चन किया गया। उसके पश्यात सवारी बड़ा गणेश मंदिर के सामने से होती हुई श्री महाकालेश्‍वर मंदिर वापस आयी। सवारी के पूर्व सभा मण्डप में मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक गणेश धाकड, सहायक प्रशासक पूर्णिमा सिंगी सहित अन्य ने उमा माता की पालकी को नगर भ्रमण की ओर रवाना किया।

खबरें और भी हैं...