पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उज्जैन गजब है!:प्यून बना प्रतिलिपि शाखा प्रभारी, 200 के काम के मांग रहा था 4 हजार

उज्जैन9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पंजीयन कार्यालय में घूस लेते पकड़ने वाले लोकायुक्त के डीएसपी तक चौंक गए, बोले- ये चार्ज किसने दिया

लोकायुक्त पुलिस ने गुरुवार दोपहर भरतपुरी स्थित पंजीयन कार्यालय के भृत्य नारायण रावत को 4 हजार रुपए की घूस लेते ट्रेप किया। रजिस्ट्री की सत्यापित नकल देने के एवज में आवेदक से घूस मांगी थी, जबकि नियमानुसार सत्यापित नकल के सिर्फ 200 रुपए ही लगते हैं, लेकिन प्यून का कहना था कि नियम कायदे में तुम भटकते रहना, पैसा दोगे तो एक दिन में नकल दे दूंगा। तराना निवासी शैलेंद्र सिंह पंवार की शिकायत पर लोकायुक्त की टीम दोपहर में कार्यालय पहुंची। यहां फरियादी ने जैसे ही प्यून को रुपए दिए, उसने रुपए तत्काल रजिस्टर में रखे, इतने में लोकायुक्त डीएसपी वेदांत शर्मा ने उसे पकड़ लिया। रुपए जब्त करते हुए ट्रेप की कार्रवाई की गई।

डीएसपी शर्मा ने बताया कि प्यून नारायण ने आवेदक से मार्च में ही खुद की नकल निकलवाने पर 5 हजार रुपए लिए थे। इस बार शैलेंद्र सिंह पंवार अपने चाचा की नकल निकलवाने के लिए चचेरे भाई को साथ लेकर आया था तो उससे चार हजार रुपए मांगे। इसी शिकायत पर प्यून को रंगेहाथ ट्रेप किया गया।
अधिकारी बनकर बैठा था प्यून
भरतपुरी स्थित पंजीयन कार्यालय की प्रतिलिपि शाखा में प्यून ही अधिकारी बनकर बैठा था। ट्रेप करने के बाद डीएसपी ने उससे पहला सवाल ही यही किया कि तुम तो प्यून हो, फिर इस शाखा का प्रभारी तुम्हे किसने बना दिया। कब से यह काम देख रहे हो, वह जवाब नहीं दे पाया। फिर उससे यह पूछा कि नकल के तो 200 रुपए लगते हैं।

तुम पांच हजार रुपए किस बात की घूस लेते थे। वह इसका भी जवाब नहीं दे पाया। पूरे समय हाथ जोड़ता रहा। डीएसपी शर्मा ने बताया कि जांच की जाएगी कि आखिर प्यून को प्रभारी बनाकर बैठाने वाले पंजीयन शाखा के अधिकारी भी इस भ्रष्टाचार में लिप्त तो नहीं हैं।
एक बार पांच हजार दे चुका था, दूसरी बार फिर चार हजार मांगे
फरियादी शैलेंद्र पंवार ने बताया कि मार्च में खुद की रजिस्ट्री की सत्यापित नकल निकलवाने आया था ताकि राष्ट्रीयकृत बैंक में लोन के लिए प्रक्रिया की जा सके। तब प्यून ने मुझसे 200 रुपए के काम के 5 हजार रुपए लिए थे। अब चाचा की रजिस्ट्री की नकल चाहिए थी तो इस बार फिर आया।

प्यून से कहा नकल दे दो, वह बोला पिछली तुमने पांच हजार दिए थे, इस बार एक हजार रुपए की छूट दे सकता हूं। रुपए हैं तो बात करो, अगले दिन नकल हाथ में दे दूंगा, नहीं तो नियमानुसार भटकते रहना। पंजीयन कार्यालय में किसी भी अधिकारी के पास चले जाना, वह भी मदद नहीं करेगा। यह सुनने के बाद ही मैंने लोकायुक्त कार्यालय जाकर शिकायत की।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें