• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Ravana Will Be Of 25 Feet In Ujjain, There Will Be Arrangement For Online Viewing, Fireworks Will Also Be Symbolic, Link Will Be Released On 14

रावण दहन पर हावी कोरोना गाइडलाइन:उज्जैन में 25 फीट का रहेगा रावण, ऑनलाइन देखने की होगी व्यवस्था, आतिशबाजी भी सांकेतिक रहेगी, 14 को जारी होगी लिंक

उज्जैन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इस बार उज्जैन में सांकेतिक रूप से रावण दहन किया जाएगा। दशहरा मैदान पर होने वाले रावण दहन में इस बार भी लोगों का आना प्रतिबंधित रहेगा। दशहरा उत्सव समिति इस बार केवल 25 फीट ऊंचा ही रावण बनाएगी। जबकि हर बार सौ फीट अधिक ऊंचा रावण बनाया जाता है।

दशहरा उत्सव समिति के सचिव मनीष शर्मा ने बताया कि इस बार भी कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए प्रतिकात्मक रूप से रावण दहन किया जाएगा। पिछले साल की तरह इस बार भी आतिशबाजी होगी लेकिन यह केवल सांकेतिक होगी। 14 अक्टूबर को शहरवासियों के लिए लिंक जारी कर दी जाएगी। जिस पर क्लिक करते ही लाइव रावण दहन देखा जा सकेगा। लोगों को समय भी बता दिया जाएगा।

अलग-अलग डिजाइन और आकार के रावण के पुतले बाजार में मिल रहे हैं।
अलग-अलग डिजाइन और आकार के रावण के पुतले बाजार में मिल रहे हैं।

रावण दहन का यह रहेगा क्रम -
हर साल की तरह परंपरा का निर्वाह प्रतीकात्मक रूप से किया जाएगा। भगवान महाकाल की सवारी के पीछे भगवान राम-लक्ष्मण की सवारी भी निकाली जाएगी। कलेक्टर राम-लक्ष्मण की पूजा करेंगे। इसके बाद रावण दहन किया जाएगा। इस बार भी मंच नहीं लगाया जाएगा। आतिशबाजी होगी लेकिन सांकेतिक। हर साल की तरह ग्वालियर और देवास के आतिशबाजी बनाने वाले कलाकारों की बीच प्रतिस्पर्धा नहीं होगी।

घर पर ही करें रावण दहन, सौ से 21 सौ रुपए में बाजार में मिल रहे रावण के पुतले -
इस बार शहर के प्रमुख दशहरा मैदान में रावण दहन प्रतिकात्मक रूप से होने के चलते बाजार में रेडीमेड रावण के पुतलों की भारी डिमांड है। बच्चों के लिए सौ से 21 सौ रुपए तक के रावण के पुतले बाजार में उपलब्ध हैं। बच्चे 3 फीट से 20 फीट ऊंचे रावण मिल रहे हैं। कुछ कलाकार इनकी बुकिंग करके भी रावण तैयार कर रहे हैं। हालांकि 3 से 5 फीट ऊंचे रावण की सबसे ज्यादा डिमांड है।

उज्जैन की नई सड़क रोड पर महाकाल फायर शॉप पर कई प्रकार के रावण खरीदने वाले बच्चे ज्यादा आ रहे हैं। साढ़े तीन फीट के रावण के पुतले की कीमत 350 रुपए है। यहां दूसरा पुतला साढ़े पांच फीट का है। जिसकी कीमत 1000 रुपए का है। दुकान संचालक मोहित ने बताया कि लोग मोल-भाव करते हैं। इसलिए कीमत कम ज्यादा हो जाती है। हमने अभी 150 रावण के पुतले तैयार किए हैं। उम्मीद है कि सभी बिक जाएंगे। अब तक 15 रावण के पुतलों की बुकिंग हो चुकी है।

ऐसे बनाते हैं -
रावण के पुतले बनाने में करीब 10 से 15 दिन का समय लग जाता है। पुतले को बनाने के लिए में लकड़ी और पेपर का इस्तेमाल किया जाता है। उस पर रंग रोगन और तमाम सजाने में काफी वक्त जाता है। लकड़ी पर कागज को चिपकाने के लिए आटे की लई का इस्तेमाल किया जाता है।

खबरें और भी हैं...