पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रावधान:क्षेत्रीय संचालक ने कहा- सरकारी डॉक्टर प्राइवेट अस्पताल में नहीं कर सकते इलाज

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतिकात्मक फोटो
  • पोस्टिंग माधवनगर में और मरीज का इलाज सीएचएल मेडिकल सेंटर में

प्राइवेट अस्पतालों में इलाज किए जाने पर लगी रोक के बावजूद जिला अस्पताल, माधवनगर अस्पताल व चरक अस्पताल के डॉक्टर मरीजों का इलाज प्राइवेट अस्पतालों में जाकर कर रहे हैं और मरीजों से मोटी फीस वसूल रहे हैं। सरकारी अस्पतालों से मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में शिफ्ट भी किया जाता है और सरकारी डॉक्टर ही मरीज का इलाज करते हैं।

शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. एमडी शर्मा द्वारा जेके अस्पताल में बच्ची का इलाज किए जाने का मामला सामने आने के बाद माधवनगर हॉस्पिटल में पदस्थ एमडी मेडिसिन डॉ. कविता बैंडवाल द्वारा भी एक ही परिवार के सदस्यों का इलाज सीएचएल मेडिकल सेंटर में किए जाने का मामला सामने आया है, जिनमें से एक मरीज को तो माधवनगर अस्पताल से सीएचएल मेडिकल सेंटर में शिफ्ट किया जाकर वहां इलाज किया था।

मरीज राधेश्याम पोरवाल उम्र 67 साल निवासी चंद्रशेखर मार्ग नागदा को निमोनिया की शिकायत होने पर सीएचएल मेडिकल सेंटर में भर्ती कर यहां पर माधवनगर अस्पताल में पदस्थ एमडी मेडिसिन डॉ. कविता बैंडवाल द्वारा इलाज किया गया। सीएचएल मेडिकल सेंटर में आइसोलेशन वार्ड में की गई प्रति विजिट के 1100 रुपए के मान से 29 सितंबर को 3300 रुपए चार्ज किया गया।

उसके बाद प्रति विजिट के 1400 रुपए के मान से पांच विजिट के 5 अक्टूबर को 7000 रुपए चार्ज किए गए। इस तरह से मरीज से सरकारी डॉक्टर की विजिट के 10300 रुपए वसूले गए। मरीज को करीब डेढ़ लाख की बिलिंग की गई। राधेश्याम की पत्नी गीता बाई को माधवनगर हॉस्पिटल से सीएचएल मेडिकल सेंटर में शिफ्ट किया जाकर यहां डॉ. कविता बैंडवाल ने इलाज किया।

ये है पांच प्रावधान: इनका पालन नहीं हो रहा

01. सरकारी डॉक्टर्स ड्यूटी टाइम के बाद केवल घर पर मरीजों को परामर्श दे सकते हैं। 02. प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों का इलाज नहीं कर सकते हैं। 03. मरीज को प्राइवेट अस्पताल में रैफर करने पर भी रोक लगी है। 04. सरकारी अस्पताल में मरीज को बाजार की दवाई लिखने पर प्रतिबंध। 05. प्राइवेट डॉक्टर से इलाज करवाने की सलाह नहीं दे सकते।

शिकायत मिलने पर कार्रवाई

सरकारी अस्पतालों में पदस्थ डॉक्टर प्राइवेट में मरीजों का इलाज नहीं कर सकते। वे ड्यूटी टाइम के बाद घर पर मरीजों को परामर्श दे सकते हैं। प्राइवेट अस्पताल में इलाज की शिकायत मिलने पर कार्रवाई का प्रावधान है।

-डॉ. डीके तिवारी, क्षेत्रीय संचालक, स्वास्थ्य

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर विजय भी हासिल करने में सक्षम रहेंगे। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से ...

और पढ़ें