पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना ने रोकी स्वीकृति:माधव कॉलेज का रास्ता अटका, कालिदास का गांधी हाल कभी किराए पर नहीं दिया

उज्जैन6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जनभागीदारी समिति की बैठक में तीन कॉलेज के संबंध में हुए थे निर्णय

शासकीय माधव कला एवं वाणिज्य कॉलेज के लिए खाकचौक से नया रास्ता अटक गया है। अगले सत्र से विद्यार्थियों के लिए ड्रेस कोड लागू होगा। इसी क्रम में अब केवल उन्हीं विद्यार्थियों को प्रवेश मिलेगा, जिनके पास परिचय पत्र होंगे। -उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन
यादव की अध्यक्षता में श्री राम जनार्दन मंदिर के पास शासकीय माधव कला एवं वाणिज्य कॉलेज में माधव, संस्कृत और शासकीय कालिदास कन्या कॉलेज की संयुक्त रूप से जन-भागीदारी समिति की बैठक में यह निर्णय लिए गए थे। विधायक पारस जैन, कलेक्टर आशीष सिंह और कॉलेज प्राचार्य और प्रोफेसर मौजूद थे। प्राचार्यों ने अपने-अपने कॉलेज का बजट प्रस्तुति किया।

ये काम भी शुरू नहीं हो सके

माधव कॉलेज : प्राचार्य व प्रोफेसर्स तय करेंगे ड्रेसकोड
समिति ने प्राचार्य और प्रोफेसर्स को निर्देश थे कि वे ड्रेसकोड का चयन करें। कॉलेज के जिन विद्यार्थियों को परिचय-पत्र नहीं मिल पाए हैं, वे अपने क्लास के शिक्षक से प्राप्त कर सकते हैं। विज्ञान की कक्षाओं के लिए नवीन शिक्षा भवन का निर्माण होगा। खाकचौक से सीधे कॉलेज भवन तक नया मार्ग बनाने के लिए भूमि मालिक को मुआवजा कॉलेज के जनभागीदारी मद से चुकाया जाएगा। अगले सत्र से बीएफए, एमएफए काेर्स शुरू किए जाएंगे।
कालिदास कॉलेज : गांधी हॉल 2000 रु. किराए पर
कॉलेज के गांधी हॉल का जीर्णोद्धार कर शैक्षणिक, सांस्कृतिक और साहित्यिक कार्यक्रमों के लिए किराए से दिया जाएगा। अवकाश और अतिआवश्यक होने पर कॉलेज का शैक्षणिक सत्र बंद होने के बाद शाम को किराए से दिया जाएगा।

इसके लिए लिए दो हजार रुपए का किराया वसूला जाएगा। वसूले गए किराए से कॉलेज का विकास करेंगे। कालिदास कन्या कॉलेज में अब कैंपस में खेलकूद के लिए लड़कों का प्रवेश प्रतिबंध रहेगा। पूर्व विद्यार्थियों का सम्मेलन करवाया जाएगा।
संस्कृत कॉलेज : कर्मकांड, ज्योतिष पढ़ाए जाएंगे
अगले सत्र से शासकीय

संस्कृत कॉलेज में कर्मकांड, ज्योतिष भी पढ़ाया जाएगा। इसके अलावा बिजली कटौती होने पर भी कॉलेज की पढ़ाई प्रभावित नहीं हो, इसके लिए दो इंवर्टर, दो अलमारी और दो कम्प्युटर मुहैया करवाए जाएंगे।

अखंड आश्रम के पास संस्कृत कॉलेज के नए भवन का निर्माण जुलाई तक पूरा होने की उम्मीद है। संस्कृत महाविद्यालय के अतिरिक्त संचालक उच्च शिक्षा डॉ.आरसी जाटवा ने बताया इसके अलावा विद्यार्थियों की क्षमता भी बढ़ाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...