पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

गैंगस्टर से 8 घंटे पूछताछ की कहानी:विकास दुबे ने बताया था- डीएसपी मिश्रा मुझे लंगड़ा कहते थे, साेच रखा था कि निपटाना है; मंदिर में बैठकर बहुत रोया

उज्जैन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विकास दुबे को महाकाल मंदिर में गुरुवार सुबह 9 बजे पकड़ा गया था। देर शाम उसे यूपी एसटीएफ के सुपुर्द कर दिया गया।
  • विकास से उज्जैन पुलिस की पूछताछ की जानकारी पुलिस ने नहीं दी, पर सूत्रों ने के हवाले से कुछ बातें सामने आईं
  • विकास ने पूछताछ में बताया कि उसने शूटआउट से पहले घर पर साथियों को असलहों के साथ बुलाया था

कानपुर शूटआउट के आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे को उज्जैन पुलिस ने यूपी एसटीएफ के हवाले कर दिया था। शुक्रवार सुबह उसका एनकाउंटर कर दिया गया। विकास पर उज्जैन में कोई केस दर्ज नहीं किया गया। एसपी उज्जैन मनोज कुमार ने बताया कि चार्जशीट बनाकर यूपी पुलिस को सौंप दी गई। हालांकि, मीडिया के इन सवालों का जवाब मनोज कुमार नहीं दे पाए कि विकास पर केस क्यों नहीं दर्ज किया गया। सवालों के बीच में ही वे उठकर चले गए।

हालांकि, उन्होंने ये जरूर बताया कि विकास से 8 घंटे तक पूछताछ की गई। इस पूछताछ की जानकारी अभी पुलिस ने आधिकारिक तौर पर नहीं दी, लेकिन सूत्रों और रिपोर्ट्स के हवाले से कुछ बातें सामने आईं। बिकरू में मारे गए 8 पुलिसवालों में डीएसपी देवेंद्र मिश्रा भी थे। विकास के मुताबिक- डीएसपी को उसने इसलिए मारा, क्योंकि वो उसे लंगड़ा कहते थे। विकास को यह अपनी बेइज्जती लगती थी। विकास ने ये भी कहा था कि वो महाकाल मंदिर में बैठकर बहुत रोया था।

डीएसपी को मारने की वजह बताई

डीएसपी देवेंद्र मिश्र से खार खाए बैठा विकास काफी समय से उनकी हत्या की फिराक में था। पूछताछ में उसने उज्जैन पुलिस काे बताया, ‘‘डीएसपी मिश्र मुझे लंगड़ा बोलते थे। इलाके में मेरा इतना दबदबा था। वह मुझे ऐसा कैसे बोल सकते थे। इसलिए सोच रखा था कि डीएसपी मिश्र को निपटाऊंगा।’’ सूत्रों के मुताबिक, यही वजह है कि विकास ने हत्या के बाद भी डीएसपी मिश्र का पैर कुल्हाड़ी से काट दिया था। हालांकि, पूछताछ में विकास बार-बार बयान से पलटता रहा। उससे आईजी, डीआईजी और एसपी ने भी पूछताछ की। उसके चेहरे पर कोई पछतावा नहीं दिख रहा था। उसने बताया कि मुठभेड़ के बाद जब लगा कि ज्यादा पुलिसवाले मर गए हैं तो मामला दबाने के लिए पेट्रोल डालकर उन्हें जलाने की योजना बनाई। लेकिन दूसरी टीम आने पर सभी को भागना पड़ा।

शवों के जलाने की तैयारी कर रहा था विकास- सूत्र

सूत्रों के मुताबिक, विकास ने पुलिस को बताया कि एनकाउंटर के डर से उनसे बिकरू गांव में दबिश डालने गई पुलिस टीम पर फायरिंग की थी। उसने यह भी बताया कि और फोर्स नहीं आती तो वह सबूत मिटाने के लिए पुलिस वालों के शव जला देता, इसके लिए तेल भी मंगवाया था।

गैंगस्टर ने बताया- पुलिस के लोग मेरे संपर्क में थे। उन्होंने दबिश की जानकारी दी थी। मैंने अपने साथियों को हथियार के साथ बुलाया था। घर पर 30 लोगों के लिए खाना बनवाया था। घटना के बाद मैंने सभी साथियों को अलग-अलग भागने को कहा था।

उसने कहा- मुझे किए पर अफसोस है, पर मुझे गोली चलाने के लिए मजबूर किया गया था। मैं मंदिर के परिसर में बैठकर बहुत रोया हूं।

पुलिसवाले ने कहा- धक्का-मुक्की की तो मैंने चांटा जड़ दिया था
विकास को पकड़ने वाले महाकाल चौकी में पदस्थ विजय सिंह राठौर ने बताया कि विकास ने भागने की कोशिश की थी। उसने सुरक्षाकर्मी से धक्का-मुक्की की थी, तो उसकी घड़ी टूट गई थी। उसने मुझसे भी धक्का-मुक्की की तो मैंने उसे दो चांटे जड़ दिए थे।

कानपुर शूटआउट से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. गैंगस्टर की गिरफ्तारी, चश्मदीद की जुबानी / सुरक्षाकर्मी 2 घंटे तक विकास के आगे-पीछे घूमे, पूछा- जूता स्टैंड मैं बैग रख दूं; पकड़ाया तो हाथापाई करने लगा

2. उज्जैन में ऐसे हुई विकास दुबे की गिरफ्तारी : वीआईपी दर्शन के लिए 250 रु की रसीद कटवाई, दर्शन के बाद लौटा और पुलिस से कहा- मैं विकास दुबे, मुझे पकड़ लो

3कानपुर शूटआउट की इनसाइड स्टोरी / सीओ-एसओ की आपसी खींचतान में 8 पुलिसवालों की जान गई, नेताओं से लेकर सीनियर पुलिस अफसर तक सवालों के घेरे में

4. कानपुर शूटआउट: 24 घंटे में 3 एनकाउंटर / विकास दुबे का करीबी प्रभात मिश्रा कानपुर में मारा गया, दूसरा साथी बऊआ दुबे इटावा में ढेर

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें