पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

संस्कृत भाषा:पूरे विश्व को आत्मसात करने वाली भाषा है संस्कृत- शास्त्री

उज्जैन6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संस्कृत विवि के संस्कृत सप्ताह के अंतर्गत ऑनलाइन व्याख्यान

महर्षि पाणिनि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित किए जा रहे संस्कृत सप्ताह समारोह के अंतर्गत चौथे दिन सोमवार को ऑनलाइन व्याख्यान हुआ। जिसमें संस्कृत संवर्धन प्रतिष्ठान नईदिल्ली के सचिव चमूकृष्ण शास्त्री ने अपने विचार रखे। भाषा मूलं विकासस्य विषय पर ऑनलाइन व्याख्यान देते हुए शास्त्री ने कहाकि संस्कृत भाषा में पर्याय शब्द पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। अतः भारतवर्ष की प्रत्येक बोलियों में एवं भाषाओं में अधिकतर शब्द संस्कृत के हैं और कुछ शब्द संस्कृत के अपभ्रंश हैं। इसलिए भारतीय भाषाओं का अधिकार पूर्वक ज्ञान संस्कृत भाषा जानने वाले बहुत ही अच्छे से कर लेते हैं।

हमारा भारत देश परंपरा, नदी, पर्वत एवं संस्कृति का देश है। इन सब को बांधने वाली भाषा एकमात्र संस्कृत है। वास्तविक विकास मातृभाषा से ही है। आज पूरा विश्व संस्कृत व्याकरण को परम वैज्ञानिक प्रविधि मानता है। हमें अपने व्यवहार में सरल मानक संस्कृत भाषा का प्रयोग करना चाहिए और यह भी ध्यान में रखना चाहिए कि संस्कृत केवल किसी संप्रदाय मात्र की भाषा नहीं है अपितु विश्व को आत्मसात करने वाली मनुष्यों को जोड़ने वाली एक मजबूत श्रृंखला है।

दोपहर को संस्कृत महाविद्यालय इंदौर के आचार्य डॉ. विनायक पाण्डेय के संयोजन में ऑनलाइन चारों वेद पूजन का कार्यक्रम वैश्विक स्तर पर किया गया। व्याख्यानमाला का संयोजन डॉ. पूजा उपाध्याय ने किया। अध्यक्षता कुलपति डॉ. पंकज लक्ष्मण जानी ने की। आभार डॉ. तुलसीदास परौहा ने माना। दोनों कार्यक्रमों में उज्जैन के अलावा प्रदेशभर के संस्कृत महाविद्यालयों के आचार्य, विद्यार्थी आैर कर्मचारियों ने सहभागिता की।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser