• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Sculptures And Murals In The 900 Meter Long Corridor, The Stories Of Shiva Shakti, Facilities For Easy Darshan

विश्वनाथ का विस्तार, अब महाकाल परिसर का विकास:900 मीटर लंबे कॉरिडोर में मूर्तियों और म्यूरल्स से शिव-शक्ति की कथाएं, आसान दर्शन की सुविधाएं

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काशी विश्वनाथ से सुविधा के मामले में आगे रहेगा महाकाल क्षेत्र का विकास। - Dainik Bhaskar
काशी विश्वनाथ से सुविधा के मामले में आगे रहेगा महाकाल क्षेत्र का विकास।

काशी विश्वनाथ के बाद महाकालेश्वर मंदिर के विकास के लोकार्पण की तैयारी है। महाकालेश्वर के भीतर और बाहरी हिस्से में किए जा रहे विकास कार्यों का एक हिस्सा फरवरी तक पूरा करने का टारगेट है। 6 फरवरी को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की प्रस्तावित उज्जैन यात्रा को देखते प्रशासन सबसे पहले 900 मीटर लंबे महाकाल कॉरिडोर को पूरा करने में जुट गया है।

सीएम इस दौरान पूरे हो चुके प्रोजेक्ट्स और चल रहे कामों के साथ नई योजनाओं की समीक्षा करेंगे। सीएम ने कहा है कि महाकाल क्षेत्र के विकास की नई योजनाएं जनप्रतिनिधियों और नागरिकों के सुझाव लेकर बनाएं जिनका लाभ श्रद्धालुओं को मिले।

महाकाल के आसपास स्मार्ट सिटी के 224 करोड़ के विकास कार्य चल रहे हैं। इसके अलावा मंदिर समिति का फेसिलिटी सेंटर बन रहा है। यह काम 80 फीसदी से ज्यादा पूरे हो चुके हैं। इन कामों को फरवरी 2022 तक पूरा करने का टारगेट है। सीएम की यात्रा के पहले महाकाल कॉरिडोर के काम पूरे करने में स्मार्ट सिटी जुटी हुई है।

कलेक्टर आशीष सिंह का कहना है कि सभी योजनाओं के लिए समय-सीमा तय कर दी गई है। ठेकेदारों को भी कहा है कि वे इस समय-सीमा में अपने काम पूरे करें। इसके अलावा गुणवत्ता पर खास ध्यान दिया जा रहा है। फरवरी तक महाकाल कॉरिडोर का काम पूरा हो जाएगा। महाशिवरात्रि पर श्रद्धालुओं को इस नए परिसर से प्रवेश देने की शुरुआत की जा सकती है।

महाकाल और विश्वनाथ मंदिर के कामों में समानता

महाकाल मंदिर में दर्शन कॉरिडोर 900 मीटर लंबा और 12 मीटर चौड़ा। इसे कलात्मक और हेरिटेज लुक में विकसित किया है। इसमें ई-व्हीकल के लिए भी प्रावधान किया है। दर्शनार्थियों के लिए पैदल पथ रहेगा। विश्वनाथ मंदिर के लिए ललिता घाट से मंदिर तक 300 मीटर से ज्यादा लंबा सामान्य कॉरिडोर बनाया है।

परिसर का विस्तार 8 गुना हो रहा

  • मुख्य मंदिर के आसपास के निर्माण हटाए जा रहे हैं। अस्पताल परिसर, पुराने निर्माण, सरकारी आवास हटा दिए हैं। धर्मशाला, अन्नक्षेत्र हटाए जा रहे हैं। सामने 70 मीटर दायरे में 152 मकानों के अधिग्रहण की कार्रवाई की जा रही है।
  • काशी में 369 दुकानदारों को हटाया गया है।
  • महाकाल क्षेत्र में महाराजवाड़ा को हेरिटेज धर्मशाला बनाया जा रहा है। इसके अलावा त्रिवेणी संग्रहालय के पास नई धर्मशाला, प्रवचनधाम व अन्नक्षेत्र बनाया जा रहा है।
  • काशी में भी यात्रियों के लिए धर्मशाला आदि का निर्माण किया गया है।

फेसिलिटी सेंटर से मिलेगी सुविधाएं

  • महाकाल कॉरिडोर में फेसिलिटी सेंटर बन रहा है, जिसमें जूता स्टैंड, क्लॉक रूम, वेटिंग रूम, रेस्टोरेंट, पेयजल और अन्य सुविधाएं होंगी। पब्लिक प्लाजा बन रहा है जिसमें यात्रियों के लिए कियोस्क, टिकट काउंटर, टॉयलेट्स ब्लॉक आदि होंगे।
  • काशी विश्वनाथ में यात्रियों की सुविधा के लिए यात्री सेवा केंद्र बनाया गया है, जहां विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराई हैं।

कैमरों से नजर के लिए कंट्रोल एंड कमांड सेंटर

  • महाकाल में यात्रियों की सुरक्षा के लिए कंट्रोल एंड कमांड सेंटर व वॉच टावर बनेगा। कैमरों से पूरे परिसर में निगाह रखी जाएगी।
  • महाकाल में परिसर का विस्तार करने में पर्यटकों के आकर्षण के साथ हरियाली पर ज्यादा ध्यान दिया गया है।
  • काशी में परिसर का विस्तार करने में अपेक्षाकृत कम हरित विकास हुआ है।

रामघाट विकास, हेरिटेज धर्मशाला परिसर प्रस्तावित

स्मार्ट सिटी ने रामघाट को हेरिटेज लुक देने, सौंदर्यीकरण और लाइटिंग के साथ मंदिरों का जीर्णोद्धार करने के लिए टेंडर बुलाए हैं। इसके अलावा महाराजवाड़ा भवन को हेरिटेज धर्मशाला बनाने व परिसर में पार्किंग, गार्डन व अन्य सुविधाएं प्रस्तावित हैं। प्रमुख मंदिरों और स्थलों पर आकर्षक लाइटिंग की जा रही है।

  • महाकाल मंदिर में म्यूजियम है। इसके अलावा स्मार्ट सिटी विक्रम विश्वविद्यालय के म्यूजियम का विकास कर रही है।
  • काशी विश्वनाथ में अलग से कल्चरल म्यूजियम बनाया गया है।

महाकाल के नए परिसर में रुद्रसागर पर घाट

  • महाकाल के नए परिसर में नया मुख्य प्रवेश द्वार, प्लाजा एरिया में टिकिटिंग, फूड कियोस्क, कमल ताल, शिव स्तंभ, ओपन एयर थिएटर व अन्य सुविधाएं।
  • कॉरिडोर में 108 स्तंभों पर शिव आनंद तांडव, म्यूरल्स हेरिटेज वॉल पर शिव कथाएं, ई-रिक्शा लेन, पैदल पथ।
  • मिड-वे जोन में मार्केट, रेस्टोरेंट और अन्य सुविधाएं।
  • थीम पार्क में नाइट गार्डन, करीब 200 मूर्तियां, सिटिंग एरिया, गजेबो।
  • मूर्तियों की जानकारी देने के लिए ऑडियो सिस्टम।
  • रुद्रसागर के किनारे नया घाट, सिटिंग एरिया जहां लेजर शो, वाटर कर्टन शो, लाइट एंड साउंड शो हो सकेंगे।
  • मंदिर के आगे के हिस्से में मंदिर समिति शिखर दर्शन चौक व न्यू वेटिंग हॉल बना रही है।
  • महाकाल के आसपास तीन तरफ पार्किंग विकसित करने के साथ चौड़ीकरण, स्मार्ट रोड तथा नए मार्ग बनाए जा रहे हैं।
  • काशी में मंदिर में पहुंचने के लिए केवल घाट से मंदिर तक कॉरिडोर विकसित किया गया है।
खबरें और भी हैं...