पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोनाकाल में पहली बार महाकाल के 7 स्वरूपों के दर्शन:अलग-अलग रूपों में निकले बाबा, चंद्रमौलेश्वर-मनमहेश के साथ अन्य स्वरूपों की तस्वीरें; इस साल की सात सवारियों की श्रृंखला पूरी

उज्जैन20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शाही सवारी के मौके पर भगवान महाकाल का विभिन्न स्वरूपों में पूजन किया गया। सवारी निकले के ठीक पहले सातों स्वरूपों का एक साथ पूजन किया गया। - Dainik Bhaskar
शाही सवारी के मौके पर भगवान महाकाल का विभिन्न स्वरूपों में पूजन किया गया। सवारी निकले के ठीक पहले सातों स्वरूपों का एक साथ पूजन किया गया।

महाकाल की शाही सवारी के साथ ही इस साल की सात सवारियों की श्रृंखला पूरी हो गई। भगवान महाकाल मनमहेश और चंद्रमौलेश्वर के स्वरूप में अब अगले साल सावन के महीने में सवारी के रूप में निकलेंगे। अगले साल यानी वर्ष 2022 में भगवान महाकाल की पहली सवारी 14 जुलाई को निकलेगी।

महाकाल के पुजारी पं. आशीष पुजारी ने बताया कि भगवान महाकाल चंद्रमौलेश्वर और मनमहेश के स्वरूप में सातों सोमवार को सवारी के रूप में नगर भ्रमण पर निकलते हैं। उनका उमा महेश स्वरूप, घटाटोप स्वरूप, मन महेश स्वरूप व होलकर स्वरूप साल में केवल शाही सवारी के दिन ही निकलता है। परंपरा के मुताबिक हर सोमवार को सवारी में स्वरूप बढ़ता जाता है। इस बार छह सवारियों में भगवान के सिर्फ दो ही चंद्रमौलेश्वर और मनमहेश स्वरूप ही निकाले गए, लेकिन आखिरी दिन पांच स्वरूप और बढ़ा दिए गए। इस तरह कुल सात स्वरूपों में बाबा ने भक्तों को दर्शन दिए।

इन स्वरूपों के दर्शन करने के साथ ही शाही सवारी की झलकियां भी देखें

महाकाल का उमा-महेश स्वरूप
महाकाल का उमा-महेश स्वरूप
महाकाल का चंद्रमौलेश्वर स्वरूप।
महाकाल का चंद्रमौलेश्वर स्वरूप।
महाकाल का ऊपर शिव तांडव स्वरूप। नीचे उमा महेश स्वरूप।
महाकाल का ऊपर शिव तांडव स्वरूप। नीचे उमा महेश स्वरूप।
महाकाल का घटाटोप स्वरूप।
महाकाल का घटाटोप स्वरूप।
महाकाल का सप्तधान्य स्वरूप।
महाकाल का सप्तधान्य स्वरूप।
होलकर राजवंश की ओर से दिया गया महाकाल का स्वरूप।
होलकर राजवंश की ओर से दिया गया महाकाल का स्वरूप।
खबरें और भी हैं...