• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Shireen Used To Distribute Pamphlets In Newspapers, Used To Blackmail The Front After Complaining To Women

मानव अधिकार के नाम पर ठगी:शिरीन अखबारों में पंपलेट बंटवाकर महिलाओं से शिकायत लेकर सामने वाले को करती थी ब्लैकमेल

उज्जैन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिरीन हुसैन। इसे 11 सितंबर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। - Dainik Bhaskar
शिरीन हुसैन। इसे 11 सितंबर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।
  • ह्यूमन राइट्स ऑर्गेनाइजेशन का राष्ट्रीय महासचिव के पद से बर्खास्त होने के बाद भी पैसे लेकर दे रही थी फर्जी नियुक्तियां

मानव अधिकार मामले में गिरफ्तार शिरीन हुसैन की गिरफ्तारी के बाद उसके खिलाफ संगठन के कई कार्यकर्ता खुलकर आगे आ गए हैं। अखबारों में पंपलेट डालकर महिलाओं को फंसाने का काम करती थी। ये पंपलेट हिंदू इलाकों में ही बांटे जाते थे। जैसे ही कोई महिला शिकायत लेकर पहुंचती, उसके केस की स्टडी करने के बाद दूसरे पक्ष को ब्लैकमेल करना शुरू कर देती थी। शिरीन को 11 सितंबर को नागझिरी पुलिस ने धारा 420, 468, 471 व 506 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया है।

शिरीन हुसैन अखबारों में महिला उत्पीड़न, जमीनी विवाद, घरेलू हिंसा, श्रमिक शोषण पुलिस द्वारा FIR दर्ज न करने जैसे मामलों में आवाज उठाने का दावा करने वाले पंपलेट बंटवाती थी। इसमें वह खुद को ह्यूमन राइट्स ऑर्गेनाइजेशन का राष्ट्रीय महासचिव बताती थी। वहीं सूत्रों का दावा है कि शिरीन हुसैन पति के अनाम के साथ मिलकर हिंदू लड़कियों की प्रोफाइल पता करके मुस्लिम लड़कों को हिंदू बताकर मिलाती थी। पुलिस इस मामले में भी जांच कर रही है। शिरीन का इंदौर के भी कुछ मुस्लिम संगठनों से नाता है।

इस तरह के पंपलेट छपवाकर अखबारों में बांटती थी शिरीन।
इस तरह के पंपलेट छपवाकर अखबारों में बांटती थी शिरीन।

पहले भी संगठन बाहर कर चुका है शिरीन को

शिरीन को लगातार शिकायतें मिलने के बाद संगठन से पहले भी बाहर किया जा चुका है। लेकिन वे माफी मांगकर दोबारा पद हासिल कर लिया। लेकिन इसके बाद शिरीन ने फिर से अपना खेल शुरू कर दिया।

ऐसे हुई गिरफ्तारी

शिरीन हुसैन निवासी आदर्श नगर, नागझिरी ने पैसे लेकर संगठन में कई नियुक्तियां कर दीं। शिरीन ने बुरहानपुर के करीब 30 लोगों से 60 हजार रुपए लेकर नियुक्ति पत्र और पहचान पत्र भी जारी कर दिए। इसके अलावा उज्जैन में भी कई लोगों से पैसे लेकर नियुक्तियां दे दीं। यह शिकायत जब पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मधु यादव निवासी लखनऊ तक पहुंची तो उन्होंने पहले शिरीन को समझाया। लेकिन वह नहीं मानी। उल्टा संगठन के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया। तब 6 सितंबर को मधु यादव ने उज्जैन आकर उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव को कार्रवाई के लिए ज्ञापन सौंपा था। इसके बाद मधु यादव ने 11 सितंबर को उज्जैन आकर नागिझरी थाने में शिरीन के खिलाफ रिपोर्ट लिखा दी।

खबरें और भी हैं...