पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Short Film Will Be Shown Before Bhasmarati So That Devotees Can Also Understand Its Importance

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई पहल:भस्मआरती के पहले दिखाएंगे शार्ट फिल्म ताकि श्रद्धालु भी समझ सकें इसका महत्व

उज्जैन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जन्म से मृत्यु तक सद्कार्यों का संदेश देती महाकाल की भस्मआरती

ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर की तड़के होने वाली भस्मआरती के पहले श्रद्धालुओं को शार्ट फिल्म दिखाई जाएगी। इस फिल्म में आरती का महत्व बताया जाएगा। ताकि जब श्रद्धालु दो घंटे तक भस्मआरती के दृश्यों को देखे तो वह उसके आध्यात्मिक महात्म को भी समझ सके। उन्हें तीर्थ के संबंध में अन्य जानकारियां भी दी जाएगी।

देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर मंदिर में ही तड़के 4 बजे भगवान की भस्मआरती होती है। इसमें भगवान को भस्म अर्पित होती है, इसलिए इसे भस्मआरती कहा जाता है। दो घंटे तक श्रद्धालु नंदी, गणेश और कार्तिकेय परिसर में बैठ कर आरती के दर्शन करते हैं। प्रारंभ में सीमित संख्या में श्रद्धालुओं को गर्भगृह में जाकर भगवान पर जल अर्पण की अनुमति रहती है। मंदिर समिति द्वारा आरती में शामिल होने के लिए ऑनलाइन प्री-परमिशन जारी की जाती है। कोरोना संक्रमण के चलते फिलहाल भस्मआरती में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद है।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने शहर विकास योजनाओं की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को भस्मआरती की शार्ट फिल्म बनाने को कहा है। इसका प्रदर्शन भस्मआरती शुरू होने के पहले किया जाएगा। इसमें श्रद्धालुओं को बताएंगे कि भस्मआरती क्यों की जाती है और इसका आध्यात्मिक महत्व क्या है। अभी दर्शनार्थी आरती को केवल धार्मिक क्रिया के तौर पर देखते हैं। जब उन्हें पहले से पता होगा कि इसका मर्म क्या है तो वे ज्यादा लगन और समझ के साथ आरती के दर्शन करेंगे। इससे उनके जीवन में भी सकारात्मक बदलाव आएगा।

विद्वानों के परामर्श से स्क्रिप्ट
फिल्म का निर्माण प्रशासन कराएगा। इसके लिए धर्माचार्यों व विद्वानों से परामर्श कर स्क्रिप्ट तैयार की जाएगी। इसके आधार पर फिल्म तैयार होगी। इसे दिखाने के लिए मंदिर समिति प्रबंध करेगी। मौजूदा एलईडी स्क्रीन का उपयोग भी किया जा सकता है।

भस्मआरती का संदेश
मंदिर परिसर स्थित महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनीत गिरि जो भगवान पर भस्म अर्पित करते हैं, उनका कहना है भस्मआरती में भगवान के निराकार स्वरूप से साकार और फिर निराकार स्वरूप के दर्शन कराते हैं। इस दौरान आरती की विभिन्न क्रियाओं के माध्यम से जीवन की उत्पत्ति और अंत को दर्शाया जाता है। संदेश यही है कि जन्म से मृत्यु तक का समय तय है, इसका उपयोग सद्कार्यों में किया जाए तो ही मोक्ष मिलता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें