पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Signal Closed Till 9 In The Morning, Not Jawans... And This Time Of High Speed Of Vehicles, 4 Days Ago Due To This Death

खतरनाक हो जाता है चामुंडा माता चौराहा:सुबह 9 तक सिग्नल बंद, जवान नहीं...और वाहनों की तेज रफ्तार का यह समय, 4 दिन पहले इसी कारण हुई मौत

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 12 घंटे खतरनाक हो जाता है चामुंडा माता चौराहा... अनलॉक में पहली मौत यहीं हुई

चामुंडा माता चौराहा पर चार दिन पहले अंध गति से दौड़ रही आयशर गाड़ी ने वृद्ध की जान ले ली। इस हादसे के बाद भी चामुंडा माता चौराहा समेत इस मार्ग के अन्य चौराहा पर गति नियंत्रण को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया गया। यहां रात में 12 घंटे के लिए सिग्नल बंद हो जाते हैं और इसके बाद इस मार्ग से भारवाहक वाहन बेकाबू गति से दौड़ते हैं। देवासगेट मार्ग आगर-कोटा हाइवे होने से यहां रात में भारवाहक वाहनों का दबाव अधिक होता है। रात 9 से सुबह 9 बजे तक इस मार्ग के चामुंडा माता मंदिर चौराहा, कोयला फाटक और गाड़ी अड्डा के सिग्नल बंद होने के बाद रातभर वाहन अंध गति से गुजरते हैं। इसी वजह से 15 जून की सुबह भी कुशलपुरा मार्ग निवासी पटाखा व्यवसायी गोपाल ठाकुर की जान चली गई।

आयशर के ड्राइवर ने उन्हें रौंद दिया। ठाकुर की बहू कृष्णाबाई भी गंभीर घायल हो गई थी। हादसे के बाद स्थानीय लोगों ने बताया कि भारवाहक वाहन यहां से तेजगति से निकलते हैं, जिनकी गति नियंत्रण के लिए पहले भी कई बार पुलिस-प्रशासन का ध्यान आकर्षित कराया लेकिन अनदेखी बरती जा रही है।
संकेतक नहीं होने से ड्राइवरों को अंदाज नहीं लगता

देवासगेट से गाड़ी अड्डा तक एक किलोमीटर के दायरे में चार चौराहे हैं जहां सिग्नल लगे हुए हैं। रात में यहां सिग्नल बंद होने के बाद सुबह तक भारवाहक वाहनों की आवाजाही ही सबसे अधिक होती है। इन चौराहों से रहवासी क्षेत्र लगे हुए हैं, जिसे ध्यान में रखते हुए न तो संकेतक लगाए गए हैं और न ही ब्रेकर है। नतीजतन ड्राइवरों को गति कम करने अनुमान नहीं लग पाता है।

जल्द ही मार्ग का निरीक्षण कराया जाएगा
एएसपी अमरेंद्रसिंह चौहान ने कहा कि संबंधित मार्ग पर सुरक्षा संबंधी और क्या इंतजाम हो सकते हैं। इसके लिए नगर निगम और ट्रैफिक पुलिस की मदद से जल्द ही निरीक्षण कराया जाएगा।

खबरें और भी हैं...