पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Son Commits Suicide, Pregnant Daughter in law Jumps In Gum, Grandmother maker Dies Before Coming Into The World, What Will Be Bigger Pain Than This

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दर्द की इतेहां:बेटे ने आत्महत्या की, गम में गर्भवती बहू ने छलांग लगा दी, दादी बनाने वाला दुनिया में आने से पहले मर गया, इससे बड़ा दर्द क्या होगा

उज्जैन3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भास्कर पहल के बाद वे लोग आगे आए जिनके अपने छिन गए, उनके दर्दभरेे शब्द, हम सबके नाम, ताकि फिर कोई ऐसा कदम न उठाए
  • फोटोग्राफर शेल्के की पत्नी ने कहा- अगर आज वो जिंदा होते तो हर प्रताड़ना का मिलकर सामना कर लेते

जिदंगी है तो सुख-दु:ख दोनों हैं। परेशानी आए तो उसका सामना कीजिए, लड़िए पर डरिए मत क्योकि आत्महत्या किसी समस्या का हल नहीं है। कोई भी भयावह कदम उठाने से पहले एक बार यह जरूर सोच लें कि उनके बाद परिवार का क्या होगा। कर्ज, सूदखोरी और आर्थिक समस्या के बाद अंध विश्वास के चलते भी एक ही परिवार के दो भाईयों की तीन दिन के भीतर आत्महत्या करने की घटना सकते में लाने वाली है। भास्कर ने पीड़ित परिवार के पास ही पहुंचकर उनके परिजनों से इस संदर्भ में बात की। उन्हीं के माध्यम से पूरे समाज को यहीं अपील, आत्महत्या किसी भी समस्या का हल नहीं है।

बेटे के सिर से उठ गया पिता का साया

फोटोग्राफर नीलेश शेल्के ने सूदखोरों ने परेशान होकर आत्महत्या कर ली। हादसे के बाद शेल्के की पत्नी नेहा इकलौते बेटे श्रेयांश के साथ ढाबारोड स्थित मायके में रह रही है। बेटे के सवालों का जवाब मां के पास नहीं है। वह मुझे बस देखता रहता है। मैंने पति और एक बेटे ने पिता खोया है, हमसे ज्यादा इसकी कमी कौन समझ सकता है। मैं सभी से यहीं कहना चाहती हूं कि कोई भी गलत कदम उठाने से पहले परिवार के बारे में सोचें।

बेटा चला गया, तस्वीर देखकर रोते हैं

ठेकेदार शुभम खंडेलवाल की मां ने कहा 70 साल की उम्र में इकलौते बेटे की तस्वीर पर हार चढ़ाना कलेजे पर पत्थर रखने जैसा ही है। बेटे के सिवाय कौन था, उसकी नई शादी हुई थी। कितने अरमान थे, सब खत्म हो गए। पत्नी भी अस्पताल में है। सभी से अपील है कि ऐसा करने से पहले परिवार के बारे में जरूर सोचें कि उनका क्या होगा। शुभम के पिता ने कहा कि बेटे ने आत्महत्या नहीं कि उसे मरने पर मजबूर किया।

जाने वाला तो चला जाता है, उसके जाने का दर्द तो परिवार ही सहता है
मेरा बेटा गोविंद लोगाें के सुख-दु:ख में आगे रहता था, उनकी मदद करता। परिवार में कभी कोई समस्या नहीं, सभी मिल-जुलकर रहते हैं। बेटे ने जो कदम उठाया उससे दु:खी हूं। सोच नहीं सकता था कि वह ऐसा करेगा। हर दिन खुशमिजाज रहता था। यहीं कहना चाहता हूं कि छोटी-छोटी बातों से हारे नहीं क्योंकि जाने वाला तो चला जाता है, दर्द तो परिवार ही आपस में बांटता है। इसलिए हिम्मत से काम लें और आपस में परेशानी को बताएं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser