सौ से अधिक कोरोना मरीज, घर निकले तो सख्ती:स्पॉट फाइन : एक बाइक पर पांच को बैठाकर ले जा रहा था, सभी पर लगाया जुर्माना

उज्जैन12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना एक बार फिर शहर में पैर पसार रहा है। बुधवार को उज्जैन में 35 और गुरुवार को 50 संक्रमित मरीज मिलने के बाद चिंता और बढ़ गई है। कलेक्टर आशीष सिंह के आदेश पर अलग-अलग चौराहों पर स्वास्थ्य विभाग की टीमें दिखाई दीं। पुलिस व नगर निगम की टीम ने बिना मास्क वालों पर रोको टोको अभियान के तहत कार्रवाई की।

उज्जैन के नीलगंगा, चिमनगंज मंडी, फ्रीगंज सहित उज्जैन पब्लिक स्कूल के सामने चौराहे पर एसडीएम और पुलिस बल ने आने जाने वाले उन लोगों को रोका जो मुँह पर मास्क नहीं लगाए हुए थे। कुछ को समझाइश देकर छोड़ा तो कुछ पर 200 रुपए का फाइन भी किया।

एसडीएम गोविन्द दुबे ने उज्जैन पब्लिक स्कूल के सामने कई लोगों को रोका। लोगों मास्क नहीं पहनने के कई बहाने गिना दिये। इस दौरान एडीएम दुबे ने एक ग्रामीण को रोका जो अपनी बाइक पर पांच लोगो को बैठाकर ले जा रहा था। इनमें से एक ने भी मास्क नहीं पहना था। जब इनसे 200 रुपए की फाइन की बात की तो सभी ने अपने मुँह पर मास्क लगा लिया। एसडीएम दुबे फिलहाल आज से रोको टोको अभियान की शुरआत हुई है लोगो का स्पॉट फाइन किया गया है ये प्रक्रिया निरंतर चलती रहेगी।

शहर के 14 थानों में 71 हजार वसूले –

शहरी क्षेत्र के सभी 14 थानों की पुलिस अपने-अपने इलाकों में 2 जनवरी से ही स्पॉट फाइन की कार्रवाई कर रही है। इन थानों पर पुलिस ने पांच दिनों में 70 हजार से ज्यादा की वसूली की है। सभी से 200 रुपए वसूले गए। इनमें से सबसे ज्यादा स्पॉट फाइन की राशि कोतवाली पुलिस ने वसूली। पुलिस ने यहां से 13700 रुपए वसूले। जबकि नागझिरी थाने ने 10400, महाकाल थाने ने 8800 रुपए की वसूली की।