डेंगू का प्रकोप:रिपोर्ट निगेटिव पर मरीजों में लक्षण डेंगू के, प्लेटलेट कम हो रहे

उज्जैन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • चार-पांच दिन बाद एंटीजन टेस्ट कराने पर मरीजों में डेंगू पॉजिटिव नहीं आ रहा

जिले में चार साल बाद लौटे डेंगू का प्रकोप इस बार ज्यादा घातक है। मरीजों की जांच में रिपोर्ट निगेटिव आ रही है लेकिन उनमें लक्षण डेंगू के पाए जा रहे हैं। प्लेटलेट कम हो रहे हैं। ऐसे में मरीज गंभीर स्थिति में पहुंच रहे हैं। डेंगू हाेने केे चार-पांच दिन बाद जांच करवाने पर रिपोर्ट निगेटिव आती है। ऐसे में मरीजों को डेंगू पीसीआर टेस्ट करवाने की जरूरत है ताकि डेंगू की पुष्टि हो सके।

प्लेटलेट कम होने की एक वजह चिकनगुनिया व एडीनो वाइरस या डेंगू जैसे दूसरे वायरस का होना भी है। जिन मरीजों में रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है, उनमें एंटीबॉडी बनने लगती है। जिले में संचालित प्राइवेट लैब में रोज मरीज जांच करवा रहे हैं। इनमें से करीब 150 हर रोज डेंगू पॉजिटिव पाए जा रहे हैं। जिला अस्पताल के अंतर्गत चरक बिल्डिंग में संचालित पैथालॉजी लैब में हर रोज 18 से 20 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो रही है।

कोविड में लगा रहा अमला, डेंगू पर ध्यान नहीं दिया, फैलता गया

उज्जैन में डेंगू के बढ़ते मरीजों की पड़ताल करने पर पाया गया है कि जुलाई माह से डेंगू का प्रकोप शुरू हो गया था। इस दौरान स्वास्थ्य और नगर निगम अमला कोविड में लगा रहा और डेंगू के बढ़ते प्रकोप की ओर ध्यान नहीं दिया।

चार साल में फिर लौटा लेकिन इस बार प्रकोप ज्यादा घातक

शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. रवि राठौर ने बताया डेंगू 3-4 साल में वापस लौटता है। डेंगू का प्रकोप इस बार ज्यादा घातक है। बच्चे खाना नहीं खा पा रहे हैं या सुस्त लग रहे हैं तो उन्हें नारियल पानी व पपीता का रस दिया जाना चाहिए।

खबरें और भी हैं...