• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • The Dead Body Was Found Sitting On The Chair, When The Children Saw It, They Called The Police, The Police Found The Killers, The Court Sent Them To Jail For Life.

अंधे कत्ल में परिचित ही निकले कातिल:कुर्सी पर बैठे हुए मिला था शव, बच्चों ने देखा तो पुलिस को बुलाया, पुलिस ने ढूंढ़ निकाले हत्यारे, कोर्ट ने आजीवन जेल भेजा

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

परिचित के घर में चोरी की नीयत से घुसे दो युवकों को पुलिस ने हत्या के केस में गिरफ्तार कर लिया। कॉल डिटेल, खून से सने कपड़े और चोरी का माल बरामद करने के बाद दोनों आरोपियों ने बताया कि उन्होंने चोरी की नीयत से ही युवक का कत्ल किया था। इस पर विशेष न्यायाधीश एस.सी./एस.टी. एक्ट अश्वाक् अहमद खान की कोर्ट ने आरोपी प्रदीप पिता कैलाश और पवन पिता राजकुमार, निवासी इन्दौर को धारा 302 के तहत आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

घटना पांच साल पुरानी है। सिंहस्थ के दौरान इंदौर से कुछ परिचित मृतक भेरुलाल के घर आए। उन्हें घर में सोने-चांदी के आभूषण होने की भनक लगी तो दोनों ने भेरुलाल की हत्या कर मौके से फरार हो गए। भेरुलाल को जब घर के बाहर खेल रहे बच्चों ने कुर्सी पर बैठे देखा तो उसके सिर से खून बह रहा था। यह सूचना बच्चों ने पड़ोसी और पड़ोसियों ने पुलिस को दी।

पुलिस ने कॉल डिटेल के आधार पर दोनों आरोपियों प्रदीप पिता कैलाश और पवन पिता राजकुमार से पूछताछ की तो दोनों ने हत्या करना स्वीकार कर लिया। दोनेां ने बताया कि उन्होंने चोरी की नीयत से ही उसे डंडे से मारा था। सिर में डंडा लगने से भेरुलाल के सिर से पैर तक खून बह रहा था। यह खून दोनों आरोपियों के कपड़ों पर भी लगा था। पुलिस ने खून से सने कपड़े भी दोनों के पास से बरामद किए। साथ ही चोरी में गए आभूषण व मोबाइल भी बरामद कर लिए। भेरूलाल के परिजनों ने आभूषण की पहचान कर ली।

पुलिस ने दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। जहां दोनों को धारा 302 के तहत आजीवन कारावास की सजा सुनाई। साथ ही धारा 201 के तहत 5-5 साल और धारा 380/34 के तहत भी 5-5 साल जेल की सजा सुनाई। दोनों पर 15 हजार रुपए का अर्थदंड भी लगाया।