• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • The Ride Will Come Out On The Next Four Mondays, This Month There Will Also Be Harihar Milan, This Ride Will Leave At 11 Pm

महाकाल की कार्तिक-अगहन में सवारी:अगले 4 सोमवार निकलेगी सवारी, इसी माह हरिहर मिलन भी होगा, रात 11 बजे निकलेगी सवारी

उज्जैन22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कार्तिक और अगहन माह में निकलने वाली महाकाल की 4 सवारी इस सोमवार से निकलेगी। कोविड के कारण रूट को छोटा कर दिया गया है। इसके चलते चारों सवारी महाकाल से रामघाट तक हरसिद्धि मार्ग से होते हुए जाएगी। मंदिर प्रशासक गणेश धाकड़ ने कहा कि सवारी के दौरान श्रद्धालुओं के दर्शन होते रहेंगे, लेकिन यह पिछले साल की तरह छोटे मार्ग से ही निकाली जाएगी।

कार्तिक और अगहन माह में महाकाल की सवारी निकालने की परंपरा है। इनमें से दो सवारी कार्तिक और दो अगहन माह में निकाली जाएगी। सोमवार 8 नवंबर को पहली सवारी, जबकि 15, 22 और 29 को तीनों सवारी निकाली जाएगी। सभी का समय शाम 4 बजे का रहेगा। पं. महेश पुजारी ने कहा कि हर बार परंपरा अनुसार गोपाल मंदिर के सामने से रामघाट होते हुए सवारी निकाली जाती है, लेकिन दो साल से कोविड गाइडलाइन के कारण रूट छोटा कर दिया गया है।

यह है वजह
उज्जैन में शैव और वैष्णव दोनों संप्रदाय को मानने वाले लोग रहते हैं। सावन माह में निकलने वाली सवारी शैव परंपरा के अनुसार निकलती है, जबकि कार्तिक व अगहन की चार सवारियां वैष्णव परंपरा का पालन करते हुए निकाली जाती है।

हरिहर मिलन इसी महीने की 18 को देर रात निकलेगी सवारी
इसी महीने में पांचवीं सवारी बैकुंठ चतुर्दशी के दिन निकाली जाती है। 18 नवंबर को निकलने वाली यह सवारी रात 11 बजे महाकाल मंदिर से रवाना होगी। रात ठीक 12 बजे गोपाल मंदिर पहुंचेगी। यहां हरिहर मिलन होगा। इस दिन बिल्वपत्र की माला भगवान शिव की ओर से भगवान कृष्ण को अर्पित की जाएगी, जबकि तुलसी की माला भगवान कृष्ण की ओर से शिव को।

पं. महेश पुजारी ने बताया कि चातुर्मास से जागने के बाद भगवान शिव सभी अलौकिक व्यवस्थाएं भगवान विष्णु को सौंप देते हैं। यह उसी परंपरा का निर्वहन है।