पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • The Saints Of Maharashtra And Gujarat Have Done The Work Of Widening The Ganga River Of Devotion Prof. Sharma

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी:भक्ति की गंगा के पाट को चौड़ा करने का कार्य महाराष्ट्र व गुजरात के संतों ने किया- प्रो शर्मा

उज्जैन10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भक्ति की गंगा के पाट को चौड़ा करने का कार्य महाराष्ट्र और गुजरात के संतों ने किया। वहां के भक्ति आंदोलन ने भारत के विविध अंचलों पर गहरा प्रभाव डाला। गांधीजी और डॉ आंबेडकर के विचारों पर संताें की वाणी का गहरा प्रभाव रहा है।

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा ने यह बात कही। वे अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में अपने विचार साझा कर रहे थे। संगोष्ठी महाराष्ट्र एवं गुजरात के संतों के योगदान पर केंद्रित थी। उन्होंने गुजरात के भक्त नरसी मेहता, भालन, मीरा, प्रेमानन्द, दयाराम, सहजानंद एवं महाराष्ट्र के सन्त नामदेव, तुकाराम, तुकड़ो जी आदि के योगदान की चर्चा की।

अध्यक्षता करते हुए डॉ हरेराम वाजपेयी, इंदौर ने कहा संत की पहचान किसी विशेष वेशभूषा या तिलक से नहीं होती, बल्कि उसके कर्मों से होती है। मुख्य वक्ता प्राचार्य डॉक्टर शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे ने महाराष्ट्र के संतों का इतिहास बताते हुए संत ज्ञानेश्वर, संत तुकाराम, मुक्ताबाई जनाबाई आदि के संबंध में चर्चा की। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के संत प्रांतीय सीमाओं तक बंधे नहीं हैं।

मुख्य अतिथि संस्था की कार्यकारी अध्यक्ष सुवर्णा जाधव, मुंबई ने कहा कि सदियों से महाराष्ट्र धर्म भूमि रहा है। यह क्षेत्र संतों की भूमि रहा है। ओस्लो, नार्वे के वरिष्ठ प्रवासी साहित्यकार सुरेश चंद्र शुक्ल, शरद आलोक ने कहा कि विदेशों में भारतीय संस्कृति से जुड़ाव में संतों की वाणी का अविस्मरणीय योगदान है। अहमदाबाद की डॉक्टर ख्याति पुरोहित ने कहा कि नरसी मेहता सामाजिक सद्भावना के अग्रदूत थे।

महाराष्ट्र के डॉ भरत शेणकर ने सामाजिक परिवर्तनों में संतों के योगदान पर प्रकाश डालते हुए चोखा मेळा की रचनाओं पर चर्चा की। डॉ बालासाहेब तोरस्कर ने कहा कि राष्ट्र संत तुकड़ो जी की राष्ट्रीय भावना प्रेरणादायी है। उन्होंने आजादी की लड़ाई में अविस्मरणीय योगदान दिया। संगोष्ठी की प्रस्तावना और विषय वस्तु पर महासचिव प्रभु चौधरी ने बताया। संचालन रायपुर की मुक्ता कान्हा कौशिक ने किया। काव्यात्मक आभार मुंबई की लता जोशी ने माना।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें