पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • The Second Wave Saw 36 Deaths Less Than The First ... But This City Has Seen Pyre Burning Day And Night

आंकड़ों का सुकून:दूसरी लहर में पहली से 36 मौतें कम हुईं ...लेकिन इस शहर ने दिन-रात चिताएं जलती देखी हैं

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लंबे समय बाद उज्जैन में शून्य का सुकून; शहर में एक भी नया पॉजिटिव केस नहीं मिला, कुल एक्टिव केस भी 50 से कम हुए

कोरोना काल में पहली और दूसरी लहर में सबसे ज्यादा उज्जैन में 14800 मरीज संक्रमित हुए। इनमें शहरी क्षेत्र में 14061 व उज्जैन ग्रामीण में 739 मरीज। यानी संक्रमण का खतरा शहरी क्षेत्र में ही ज्यादा बना रहा। बड़नगर तथा नागदा-खाचरौद को छोड़कर जिले की बाकी तहसीलों में मरीज कम पाए गए। जिले में सबसे कम 326 मरीज घट्टिया तहसील में पाए गए। जिले में अब तक कुल पॉजिटिव मरीज 19071 पाए गए। इनमें से पहली लहर में 5285 तथा दूसरी लहर में 13786 मरीज संक्रमण की चपेट में आए। शहर के लोगों के ज्यादा संक्रमित होने की वजह उनके दूसरे राज्य व दूसरे देशों के लोगों के साथ कनेक्टिविटी होना तथा शहरी लोगों की तुलना में ग्रामीण लोगों की इम्युनिटी ज्यादा स्ट्रांग होना है।

सरकारी रिकॉर्ड में पहली लहर में 103 मौतें हुई और दूसरी लहर में 67 मौतें दर्शाई गई, क्योंकि मरने के बाद रिपोर्ट निगेटिव दर्शाई गई। उज्जैन के मरीजों की दूसरे जिलों में हुई मौतों को यहां नहीं जोड़ा गया। नगर निगम की ओर से मार्च में 299, अप्रैल में 510 और मई में 630 मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किए गए।
जिले में 2 पॉजिटिव, 9 डिस्चार्ज
लॉकडाउन में शहरी क्षेत्र में संक्रमण का खतरा शून्य तक पहुंच गया है। शुक्रवार को जिले में 2 मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं। 9 मरीज हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होकर घर पहुंचे हैं। अब एक्टिव मरीजों की संख्या घटकर 45 रह गई है। शुक्रवार को 1783 लोगों की रिपोर्ट आई है, जिनमें बड़नगर में एक मरीज और खाचरौद में एक मरीज सहित कुल 2 मरीज पॉजिटिव पाए गए हैं इनके साथ ही उज्जैन में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 19078 हो गई है। 9 मरीज स्वस्थ होने के बाद घर पहुंचे हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में कम संक्रमित पाए गए

कोविड-19 के नोडल अधिकारी डॉ. एचपी सोनानिया ने बताया ग्रामीण क्षेत्र की तुलना में शहरी क्षेत्र में ज्यादा मरीज संक्रमित पाए गए हैं। शहरी क्षेत्र में करीब 14800 मरीज संक्रमित हुए तथा ग्रामीण क्षेत्र में एक हजार या उसके आसपास संक्रमित पाए गए। पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर में 8501 मरीज ज्यादा पॉजिटिव पाए गए।

खबरें और भी हैं...