पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • The Ujjain CMHO Ordered Everyone That No One Would Practice Private Practice And Himself Was Seeing Patients In His Hospital

कोरोना में जनसेवा की जगह भर रहे अपनी जेब:उज्जैन CMHO ने सभी को आदेश दिया कि कोई प्राइवेट प्रैक्टिस नहीं करेगा और खुद अपने अस्पताल में मरीजों को देख रहे

उज्जैन2 महीने पहले

महाकाल की नगरी उज्जैन में CMHO ने अपने मातहत अफसरों को आदेश दिया कि कोई भी प्राइवेट प्रैक्टिस नहीं करेगा। ऐसा करते पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी। आदेश निकालने के पहले और बाद में भी CMHO खुद अपने अस्पताल में मरीजों को तगड़ी फीस लेकर देख रहे हैं। जब सरकार स्वास्थ्य विभाग की एक-एक गतिविधि पर नजर रख रही है, तब सरकार के कैबिनेट मंत्री उज्जैन के मोहन यादव ने कहा कि मैं बात करुंगा।

कोरोना माहमारी ने उज्जैन सहित कई शहरों में विकराल रूप लिया जिसके कारण कई लोगो ने अपनों को खोया और अभी भी कई लोग अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे है। इस आपदा के दौर में ना सिर्फ निजी अस्पताल संचालित करने वाले डॉक्टर बल्कि सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर सबसे अहम् ड्यूटी निभा रहे। सरकारी अस्पताल मरीजों से भरे पड़े है। अस्पतालों में जगह नहीं है। स्वास्थ्य अमला दिन रात मरीजों की सेवा में लगा हुआ है। लगातार हो रही मौत के बीच उज्जैन के CMHO डॉ महावीर खंडेलवाल का एक वीडियो वायरल हुआ। इसमें वह अपने फ्रीगंज स्थित क्षेत्र में संचालित होने वाले निजी क्लिनिक पर मरीजों का इलाज करते हुए दिखाई दे रहे है। वीडियो में ये भी साफ नजर आ रहा है कि CMHO डॉ खंडेलवाल के क्लिनिक के बाहर मरीजों की भीड़ लगी हुई है। डॉ महावीर खंडेलवाल का वीडियो वायरल होते ही स्वास्थ्य अमले में हड़कंप मच गया। इसके बाद से ही CMHO से सम्पर्क करना चाहा तो उन्होंने अपने आप को महिदपुर में होने की जानकारी देकर फोन बंद कर दिया।

कठोर कार्रवाई के दिए नोटिस
उज्जैन CMHO ने 28 अप्रैल को उज्जैन, तराना, महिदपुर, बड़नगर, नागदा, खाचरौद, सहित अन्य जगह के मेडिकल ऑफिसर और ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर के नाम पर नोटिस जारी किया। इसमें साफ कहा गया कि कोविड 19 जैसी भयंकर बीमारी उज्जैन जिले में लगातार बढ़ती जा रही है। इसको देखते हुए स्वास्थ्य विभाग को जरुरी सेवा में लिया गया है। इस संबंध में कुछ चिकत्सिक शासकीय चिकित्सालय में नहीं रहते हुए प्राइवेट प्रैक्टिस पर चले जाते है। यदि ऐसा करते कोई भी चिकित्सक पाया जाता है तो उनके खिलाफ आपदा प्रबंधन 25 की धारा 56 तथा आईपीसी की धारा 188 में कठोर कार्रवाई की जाएगी।

कार्यालय गए तो पता चला वे अपने अस्पताल में

CMHO महावीर खंडेलवाल का जो वीडियो वायरल हुआ है, उसको बनाए जाने का दावा युवा उज्जैन की टीम ने किया है। युवा उज्जैन की टीम के सदस्य अंकुर नाहर ने बताया कि हमारे एक सदस्य को चरक अस्पताल में भर्ती कराने ले गए तो उन्होंने कहा कि CMHO के आदेश होंगे तब भर्ती करेंगे। इसके बाद CMHO कार्यालय गए तो पता चला कि महावीर खंडेलवाल तो अपने निजी क्लिनिक पर है। इसके बाद फ्रीगंज स्थित कार्यालय में पहुंचकर उनका वीडियो बना लिया। युवा उज्जैन की टीम द्वारा बनाए गए वीडियो में डॉ खंडेलवाल के क्लिनिक पर दीवार पर लगी एक घड़ी भी दिखाई दे रही है। इसमें लगभग दोपहर 1 बजकर 50 मिनिट का समय हो रहा है। यह समय तो उन्हें अपनी सरकारी नौकरी में होना चाहिए था।

वीडियो वायरल होने के बाद पद से हटाने की मांग

महामारी के इस दौर में मुख्य चिकित्सा अधिकारी पर जिले का भार है। वैसे ही कोरोना को लेकर स्वास्थ्य व्यवस्था चरमराई हुई है। ऐसे में CMHO का सरकारी समय में निजी क्लिनिक पर मरीजों के इलाज करने का वीडियो वायरल होने के बाद विवाद खड़ा हो गया है। कांग्रेस विधायक महेश परमार ने खंडेलवाल को पद से हटाने की मांग की है। कैबिनेट मंत्री मोहन यादव ने कहा कि इस मामले की जानकरी मिली है। जल्द ही अधिकारियो से बात करूंगा।

खबरें और भी हैं...