पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Transformer Installed For Water Supply 3 Years Ago Did Not Start, Paying Electricity Bill Of 2 Lakh Rupees Every Month

टैक्स का दुरुपयोग:पानी सप्लाई के लिए 3 साल पहले लगाया ट्रांसफार्मर चालू नहीं किया, हर माह चुका रहे 2 लाख रुपए का बिजली बिल

शाजापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • : पिछले साल बारिश में सिर्फ 2 माह मोटर चलाई, अब नए ठेकेदार के भरोसे हर माह फालतू बिल चुका रही नपा

शहरवासियाे को ज्यादा शुद्ध व पर्याप्त पानी उपलब्ध कराने के लिए 3 साल पहले बनाए गए इंटकवेल में मोटर लगाने के लिए नगर पालिका ने वहां अलग से बिजली ट्रांसफार्मर तो लगवा लिया, लेकिन इस ट्रांसफार्मर का अब तक उपयोग नहीं किया। इधर, बिजली कंपनी ने ट्रांसफार्मर लगाने के बाद से ही 2 लाख रुपए महीने का एवरेज बिल देना शुरू कर दिया और नपा काे भी बिल की यह राशि चुकाना पड़ रही है। तीन साल में नपा ने करीब 70 लाख रुपए बिजली बिल के नाम पर ही भुगतान कर दिए। हैरानी की बात यह है कि इन 70 लाख रुपए के बिल में से नपा ने सिर्फ पिछले साल बारिश के सीजन में सिर्फ 2 माह ही ट्रांसफार्मर से एक मोटर चलाई। यानी 4 लाख रुपए के बिजली बिल का उपयोग ही नपा कर सकी। इधर, बिजली कंपनी हर माह एवरेज बिल के नाम से ही 2 लाख का बिल थमाकर वसूली करने में लगी है।

ज्ञात रहे चीलर डेम लबालब हो गया है। ऐसे में पुराने इंटकवेल का उपयोग कर नपा फिर से पाइप लाइन से सप्लाई करना शुरू करा सकती है, लेकिन जिम्मेदार अब नया इंटकवेल बनाने वाले ठेकेदार के भरोसे बैठे हैं। इधर, नए ठेकेदार ने 15-20 दिन में निपटने वाला काम दो माह में भी पूरा नहीं किया। यदि ठेकेदार ऐसे ही लेतलाली करते रहे तो हर माह नपा को 2 लाख रुपए के बिजली बिल का फटका लगता रहेगा।

नए ठेकेदार की लेतलाली
1 करोड़ 20 लाख रुपए से डेम के डूब क्षेत्र में बनाए जा रहे नए इंटकवेल का काम भी धीमी गति से हुआ। ठेकेदार ने गर्मी के सीजन में तेजी से काम नहीं किया। अब डूब क्षेत्र तक के हिस्से में लाइन डालने के लिए बेस बनाकर तैयार करने के बाद पिछले एक माह से फिर काम रोक दिया। गुजरात की कंपनी की इस लेतलाली से नपा को हर माह 2 लाख रुपए के बिजली बिल का बेवजह ही फटका लग रहा है।

पाइप लाइन से वाटर सप्लाई करने में यह फायदा
डेम का पानी नहर व नदी में बहाकर लाने से 60 प्रतिशत पानी व्यर्थ बह जाता है। वहीं पानी गंदा हो जाता है। पाइप लाइन से सप्लाई शुरू होने के बाद सीधे डेम के अंदर से पानी पाइप लाइन के जरिए वाटर वर्क्स तक पहुंच जाएगा। इससे पानी में रास्ते में काेई गंदगी मिलने का चांस ही नहीं रहेगा। इतना ही नहीं पाइप लाइन में पानी लाने के लिए उक्त ट्रांसफार्मर से मोटर चलाने से एवरेज के नाम पर फालतू चुकाए जाने वाले बिजली बिल का भी उपयोग होने लगेगा।

आमजन को यह नुकसान
इंटकवेल निर्माण में हो रही देरी से शहरवासियांे को अब भी नहर व नदी में बहकर आए पानी को ही लिफ्ट कराकर आपूर्ति करना पड़ रही है। इस कारण पानी की शुद्धता को लेकर कई बार रहवासियांे को आक्रोश भी नपाकर्मियाे को झेलना पड़ता है।

जल्द करवाएंगे काम
यह सही है कि ट्रांसफार्मर का उपयोग नहीं होने के बाद भी हर माह एवरेज बिल चुकाना पड़ रहा है, लेकिन नए इंटकवेल का काम थोड़ा ही बचा है। ठेकेदार ने कुछ दिन बारिश का बहाना बना लिया था। अब जल्द ही उन्हें बुलवाकर बचे हुए काम को पूरा कराया जाएगा। नया इंटकवेल बनने के बाद एवरेज बिल देने की जरूरत नहीं रहेगी।
- भूपेंद्र दीक्षित, सीएमओ नपा

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जाने का प्रोग्राम बन सकता है। साथ ही आराम तथा आमोद-प्रमोद संबंधी कार्यक्रमों में भी समय व्यतीत होगा। संतान को कोई उपलब्धि मिलने से घर में खुशी भरा माहौल ...

और पढ़ें