पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Two And A Half Million Liters Of Water Brought To The Ghats, Yet There Is A Possibility Of Getting Dirty Water, Now Preparations For Permanent Solution

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कान्ह और शिप्रा के बीच ‘पक्की दीवार’:ढाई करोड़ लीटर पानी घाटों पर लाए, फिर भी गंदा पानी मिलने की आशंका, अब स्थायी समाधान की तैयारी

उज्जैन5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंदगी से मोक्ष की तैयारी... बार-बार कान्ह का गंदा पानी शिप्रा को करता था मैला, अब 4.5 करोड़ से बनेगा नया डेम

त्रिवेणी पर जहां मिट्टी का डेम है, वहीं अब पक्का डेम बनाकर कान्ह के गंदे पानी को रोका जाएगा। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने जब पार्टी कार्यालय में जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट के सामने कान्ह का मुद्दा उठाया तो उन्होंने 4.5 करोड़ रुपए से नया डेम बनाने की मंजूरी दे दी। सिलावट बुधवार को सपरिवार महाकालेश्वर के दर्शन के लिए आए थे।

महाकालेश्वर में दर्शन के बाद वे फ्रीगंज स्थित भाजपा कार्यालय लोकशक्ति भवन पहुंचे। वहां पार्टी की ओर से उनका स्वागत किया। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने अपने उद्बोधन के दौरान कान्ह के गंदे पानी से शिप्रा के प्रदूषण का मुद्दा उठा दिया। इस पर सिलावट ने त्रिवेणी पर नया स्टॉपडेम बनाने के लिए 4.5 करोड़ रुपए की मंजूरी देते हुए अधिकारियों को कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। इससे कान्ह के पानी की समस्या हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी। नए स्टॉपडेम में रुके पानी का उपयोग किसान भी कर सकेंगे।

एक साल पहले भेजा था प्रस्ताव
जलसंसाधन के ईई कमल कुवाल के अनुसार करीब एक साल पहले मिट्‌टी के डेम की जगह स्थाई डेम बनाने का प्रस्ताव भेजा गया था। यह नया डेम मिट्‌टी के डेम और सड़क वाले पुल के बीच बनाया जाएगा। इस संबंध में मंत्री से चर्चा हुई है। विभाग से आदेश मिलने के बाद इस पर काम शुरू करेंगे।

मिट्‌टी के डेम का सुधार किया
इधर त्रिवेणी पर कान्ह के गंदे पानी को रोकने के लिए बनाए गए मिट्टी के डेम पर कान्ह के गंदे पानी का लेवल बढ़ता जा रहा है। पीएचई ने मंगलवार को मिट्टी डेम में रिसाव होने से फिर से डेम की मरम्मत की थी, बुधवार को भी सुधार का काम चला।
सिलावट बोले- गंभीर मामला
मंत्री सिलावट का भाजपा कार्यालय लोकशक्ति भवन में स्वागत किया गया। सिलावट ने कहा यह मेरा सौभाग्य है जो सबसे बड़े और सर्वश्रेष्ठ राजनीतिक संगठन का हिस्सा बना। उन्होंने कहा कांग्रेस शासन में शिवराज सरकार की जो योजनाएं बंद की गई थीं उन्हें फिर से चालू कराया जाएगा। कार्यक्रम में नगर अध्यक्ष विवेक जोशी, विधायक पारस जैन, बहादुरसिंह बोरमुंडला मौजूद थे। सिलावट परिवार के साथ महाकालेश्वर के दर्शन के लिए आए थे। दर्शन के बाद उन्होंने मीडिया से कहा बाबा महाकाल से प्रार्थना की है कि प्रदेश में विकास हो। मातृशक्ति, बेटियों, अन्नदाताओं, युवाओं के अच्छे भविष्य के लिए आशीर्वाद मांगा। मंत्री ने कान्ह का गंदा पानी क्षिप्रा मिलने के सवाल पर इतना ही कहा- यह गंभीर मामला है, इस पर विचार करेंगे।

कान्ह डायवर्सन लाइन में लीकेज और ओवरफ्लो की समस्या
उज्जैन | कान्ह और शिप्रा के बीच एक और बांध का फैसला इसलिए लेना पड़ा क्योंकि डायवर्सन योजना पानी रोकने में कारगर नहीं रही। सिंहस्थ 2016 में कान्ह के पानी को डाइवर्ट करने के लिए डायवर्सन योजना लागू की थी। इसमें 12 फीट व्यास की पाइप लाइन डाली गई है। पिपलिया राघो डेम से पानी को इस पाइप लाइन में डाला जाता है।
सिंहस्थ के बाद इस पाइप लाइन में लीकेज शुरू हो गए थे। निर्माण एजेंसी ने तीन साल तक देखभाल की इसके बाद यह जल संसाधन विभाग को हैंडओवर हो गई। लीकेज सुधारने के लिए जलसंसाधन के पास बजट नहीं हैं। नतीजतन इस लाइन में आ रही गड़बड़ियों का सुधार नहीं हो पा रहा।

राज्य शासन के सामने अनेक बार मामला आ चुका है। बावजूद कोई उपाय नहीं हो पाया। इसके चलते तीन जनवरी को कान्ह के राघौपिपल्या स्टापडेम से गंदा पानी ओवरफ्लो होकर त्रिवेणी के समीप कच्चे बांध तक आया और शिप्रा में मिल गया। इसके पहले ओवरफ्लो के चलते ही कच्चा बांध बह गया था। इस कारण कान्ह का गंदा पानी शिप्रा में मिलता रहा। तीर्थक्षेत्र रामघाट और अन्य घाटों पर शिप्रा में भरा गंदा पानी इतना बदबूदार था कि उसमें स्नान करना भी मुश्किल था। इसलिए मकर संक्रांति के पहले नर्मदा का पानी लाने की योजना बनाई गई। पानी आने से पहले मिट्‌टी के बांध की मरम्मत की गई लेकिन हालात यह है कि पपलियराघो डेम के रिसाव के कारण गंदा पानी लगातार आ रहा है,जिससे यह डेम फिर से बह जाने की आशंका बनी हुई है।

स्नान के लिए श्रद्धालु त्रिवेणी पर नहीं जाएं
संक्रांति पर श्रद्धालु त्रिवेणी घाट पर स्नान के लिए नहीं जाएं। इस घाट पर पानी नहीं है। प्रशासन ने त्रिवेणी स्टाप डेम की डाउनस्ट्रीम में नर्मदा का पानी भरा है। अपस्ट्रीम वाले घाट क्षेत्र में शिप्रा सूखी है। कलेक्टर आशीष सिंह ने बुधवार को रामघाट का दौरा कर स्नान की व्प्यवस्था देखी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का अधिकतर समय परिवार के साथ आराम तथा मनोरंजन में व्यतीत होगा और काफी समस्याएं हल होने से घर का माहौल पॉजिटिव रहेगा। व्यक्तिगत तथा व्यवसायिक संबंधी कुछ महत्वपूर्ण योजनाएं भी बनेगी। आर्थिक द...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser