तस्करी का अड्डा:उज्जैन जीआरपी ने यात्री से पकड़ा 3 लाख से ज्यादा का 23 किलो गांजा, तस्करी कर ला रहे थे

उज्जैन9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रॉली बैग में इस तरह से पैकिंग की गई थी गांजे की। - Dainik Bhaskar
ट्रॉली बैग में इस तरह से पैकिंग की गई थी गांजे की।

जीआरपी ने रेलवे स्टेशन पर शकील पिता नाजिम निवासी शिप्रा विहार उज्जैन से 23 किलो 300 ग्राम गांजा बरामद किया है। युवक इसे ट्रॉली बैग में रखकर ला रहा था। पुलिस को मुखबिर से इसकी सूचना मिली थी। तब यात्री के हावभाव से पहचान कर और उसकी जांच करने के बाद उसके ट्रॉली बैग से गांजा बरामद किया। इसकी बाजार में 3 लाख रुपए से अधिक कीमत बताई जा रही है। शकील मूल रूप से बिहार का रहने वाला है। इससे पहले 15 अगस्त को एनसीबी ने 1 करोड़ से अधिक का गांजा पकड़ा था तलाशी लेने पर इसमें 11 पैकेट गांजे के रखे थे।

जीआरपी थाना प्रभारी निर्मल कुमार श्रीवास ने बताया कि 22 सितंबर को मुखबिर से सूचना मिली थी। जिसके बाद चैकिंग अभियान के दौरान संदिग्ध गतिविधि दिखने पर एक युवक की रोककर जांच की गयी। तब उसके पास से यह गांजा बरामद किया गया। उसके पास यह गांजा 11 पैकेट में रखा था।

15 अगस्त को नारकोटिक्स ब्यूरो ने आंध्र प्रदेश से मध्य प्रदेश में लाया गया 1376 किलो मादक गांजा करीब 1 करोड़ करोड 65 लाख रुपए की कीमत का उज्जैन के तराना से पकड़ा था जब्त किए गए प्रतिबंधित गांजा को भूरे रंग के टेप से लपेटा गया था और धान की भूसी वाले गनी बैग के नीचे छिपा दिया गया था।