लव जिहाद:उज्जैन की दुष्कर्म पीड़ित पहली बार नहीं तीसरी बार हुई लव जिहाद का शिकार

उज्जैन2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
तीन बार लव जिहाद का शिकार हुई पीड़ित। - Dainik Bhaskar
तीन बार लव जिहाद का शिकार हुई पीड़ित।
  • इंदौर और उज्जैन के नानाखेड़ा थाने में दर्ज करा चुकी है केस

लव जिहाद की शिकार हुई महिला के मामले में शनिवार को नया खुलासा हुआ है। पीड़िता ने भास्कर से चर्चा में खुद स्वीकार किया है कि वह पहली बार नहीं, बल्कि इससे पहले दो बार और लव जिहाद का शिकार हो चुकी है। पहले मामले में इंदौर और दूसरी बार उज्जैन के नानाखेड़ा थाने में आरोपियों के खिलाफ केेस दर्ज कराया है। अब तीसरी बार बड़नगर के वसीम अकरम ने शादी का झांसा देकर पीड़ित का दो साल तक शारीरिक शोषण किया। वसीम के खिलाफ पीड़िता ने शुक्रवार को उज्जैन के महिला थाने में केस दर्ज कराया। वसीम की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दबिश दे रही है।

पहली बार कादरपुरा कमरी मार्ग के जुबैर उर्फ राज ने धोखा दिया

पीड़िता ने बताया कि वर्ष 2016 में उसे कार खरीदनी थी। ओएलएक्स पर उसने एक कार पसंद की। इसी सिलसिले में उज्जैन के कादरपुरा कमरी मार्ग निवासी जुबैर के संपर्क में आई। जुबैर ने उसे अपना नाम राज बताया था। जुबैर इंदौर से गाड़ियां खरीदकर उज्जैन में बेचता था। जुबैर ने कहा कि मेरे धंधे में पैसा लगाओ। काफी प्रॉफिट होगा। उसके बहकावे में आकर मैंने पैसा लगा दिया। एक साल तक मैं जुबैर के संपर्क में थी। इस दौरान उसने शादी का झांसा देकर कई बार शारीरिक शोषण किया। वर्ष 2017 में वह बेवकूफ बनाकर राजगढ़ ब्यावरा भाग गया। उसके बाद मैंने उसके खिलाफ उज्जैन के महिला थाने में आवेदन दिया। एक साल तक परेशान होती रही। अंत में इंदौर में जुबैर के खिलाफ दुष्कर्म का केस दर्ज कराया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भी भेजा। तीन-चार माह बाद उसे जमानत मिल गई। अभी कोर्ट में मुकदमा चल रहा है।

दूसरी बार बिलोटीपुरा के साजिद से मिला धोखा

पीड़िता ने बताया कि जुबैर से मिले धोखे के बाद उज्जैन के ही बिलोटीपुरा में रहने वाले साजिद से उसकी मुलाकात हुई। साजिद नगर निगम में कॉलोनाइजर है। मुझे मकान खरीदना था। हमदर्दी जताकर साजिद मेरे घर आने जाने लगा। पहले तो उसने मुझे खुद को हिन्दू बताया लेकिन बाद में सच्चाई बता दी थी। अकेली होने के कारण साजिद ने भी शारीरिक शोषण किया। उसने भी मुझे झांसा देकर पांच लाख के गहने और ढाई लाख नकदी हड़प ली। मुनिनगर वाले मेरे मकान की रजिस्ट्री पर अपनी बेटी की शादी के नाम पर लोन ले लिया। इस साल 22 जुलाई को नानाखेड़ा थाने में साजिद के खिलाफ दुष्कर्म का केस दर्ज कराया। साजिद अभी पकड़ा नहीं गया है।

मेरे भोलेपन का लोग फायदा उठाते हैं

पीड़िता ने बताया कि उसकी शादी वर्ष 2004 में हुई थी। तीन साल तक पति से संबंध मधुर थे। इस बीच दो बच्चे भी हुए। उसके बाद पति से संबंध बिगड़ने लगे तो वह अलग हो गई। उसके बाद से उज्जैन के मुनिनगर में किराए के मकान में रहने लगी। उसके भोलेपन का लोग गलत फायदा उठाते हैं।