पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Unhappy With The Policy Of All Passes, 41 Students Did Not Reach The Examination Center, Now There Is A Possibility Of Worsening The Result

जिले के छह केंद्रों पर शुरू हुई विशेष परीक्षा:सब पास की पॉलिसी से नाखुश 41 विद्यार्थी परीक्षा देने केंद्र पर पहुंचे ही नहीं, अब रिजल्ट बिगड़ने की आशंका

उज्जैन13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सराफा में केंद्र प्रभारी को परीक्षार्थियों की उत्तर पुस्तिका जमा करते शिक्षक। - Dainik Bhaskar
कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सराफा में केंद्र प्रभारी को परीक्षार्थियों की उत्तर पुस्तिका जमा करते शिक्षक।

मप्र बोर्ड की 10वीं और 12वीं की विशेष परीक्षा सोमवार से शुरू हो गई। यह परीक्षा इस साल के परीक्षा परिणाम से नाखुश विद्यार्थियों के लिए आयोजित की जा रही है। कोरोना के कारण सरकार ने इस बार सब पास की पॉलीसी से रिजल्ट की घोषणा की थी। साथ ही रिजल्ट से नाखुश विद्यार्थियों के सामने विकल्प दिया था कि वे विशेष परीक्षा में बैठ सकेंगे। इसके लिए अगस्त के पहले सप्ताह में रजिस्ट्रेशन भी करवाए गए थे। जिले से 10वीं के लिए 124 और 12वीं के लिए 86 विद्यार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था।

परीक्षा के लिए जिले में छह केंद्र बनाए हैं। खास यह है कि पहले दिन 10वीं के 31 और 12वीं के 10 विद्यार्थी परीक्षा देने केंद्र पर ही नहीं पहुंचे। उत्कृ़ष्ट उमावि के प्राचार्य प्रमोद अग्रवाल ने बताया बोर्ड ने अब तक अनुस्थित विद्यार्थियों के संबंध में कोई दिशा निर्देश नहीं भेजे हैं। ऐसी स्थिति में अनुपस्थित रहने वाले विद्यार्थियों को अनुत्तीर्ण ही माना जाएगा।
परीक्षा देने वाले विद्यार्थी बोले- रोल नंबर गलत आने से बिगड़ा था रिजल्ट, अब परीक्षा देकर संतुष्ट

  • शासकीय कन्या उमावि में 10वीं में पढ़ती हूं। गलत रोल नंबर के कारण परीक्षा परिणाम ही बिगड़ गया। यही कारण है कि मुझे विशेष परीक्षा का विकल्प चुनना पड़ा। अब परीक्षा देकर संतुष्टी मिली है। परिणाम अच्छा ही आएगा।-ज्योति मंडलोई
  • परीक्षा के लिए सालभर ऑनलाइन तैयारी की थी। शिक्षकों से कंसल्ट भी किया। इसके बाद भी रिजल्ट बिगड़ गया। सब पास की पॉलिसी अच्छी है लेकिन इससे बेहतर है परीक्षा देना इसलिए विशेष परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया था।-अमित धानक
  • जिस तरह की तैयारी थी उससे पूरी उम्मीद थी कि तय समय पर परीक्षा होती तो 90 फीसदी ही आते। प्रोजेक्ट में नंबर आए। जिससे परिणाम 56 फीसदी ही रहा। अब परीक्षा देकर संतुष्ट महसूस कर रही हूं।-प्रियंका भल्ला

शहर से आगे निकले अंचल के विद्यार्थी
पहले दिन की परीक्षा में अंचल के विद्यार्थी की उपस्थिति शहर से ज्यादा रही। पहले दिन 10वीं का गणित और 12वीं का रसायन, इतिहास, व्यवसाय अध्ययन का पेपर था। 10वीं की परीक्षा 15 सितंबर और 12वीं की परीक्षा 21 सितंबर तक चलेगी।

खबरें और भी हैं...