पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Video Of Pre death Viral, Attempt To Steal Oxygen Machine Of Watchman Admitted In Kaivid Center Of Tarana

मानवता फिर हुई शर्मसार:तराना के कोविड सेंटर में भर्ती चौकीदार की ऑक्सीजन मशीन चुराने का प्रयास, मौत से पहले का वीडियो वायरल

उज्जैनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक बनेसिंह। - Dainik Bhaskar
मृतक बनेसिंह।

शहर से 40 किलोमीटर दूर तराना के कोविड सेंटर में भर्ती एक मरीज का ऑक्सीजन मीटर चुराने का प्रयास किया गया, जिसके बाद मरीज की तबीयत बिगड़ती गई और डेढ़ घंटे के भीतर उसकी मौत हो गई। मौत से पहले का मरीज का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इसमें उसने ऑक्सीजन मशीन चुराने वाले गांव के दो युवकों के नाम लिए। सबसे शर्मनाक पहलू यह है कि जिसने उक्त मरीज का वीडियो बनाया, वह ऐसा नहीं करते हुए उसे समय पर इलाज दिलवा देता तो शायद उसकी जान बच जाती।

महामारी में इंसानियत को रौंदने वाली घटनाएं भी सामने आ रही हैं। हालात ऐसे भी हो गए कि भर्ती मरीज का ऑक्सीमीटर तक चुराने से परहेज नहीं किया जा रहा। तराना के दीना कॉन्वेंट स्कूल के कोविड सेंटर में भर्ती साकरी गांव निवासी चौकीदार बनेसिंह 42 साल की मौत हो गई। बनेसिंह का मौत से पहले का वीडियो शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुआ।

इसमें चौकीदार बनेसिंह कह रहे हैं कि बुधवार-गुरुवार रात करीब 12.30 बजे आनंदखेड़ी गांव युवकों ने मेरी ऑक्सीजन मशीन चुराने की कोशिश की। इसके बाद मैंने एक युवक को पकड़ने की कोशिश भी की। बनेसिंह वीडियो में कह रहे हैं कि ऑक्सीजन मशीन निकालने की वजह से मेरी तबीयत बिगड़ रही है। इस वीडियो के कुछ देर बाद तो बनेसिंह की मौत हो गई।
कार्रवाई के लिए पत्र लिखेंगे
तराना के ब्लाॅक मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर राकेश जाटव ने अपने बयान में बताया कि घटना का पता सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के माध्यम से पता चला है। इस बारे में वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिख अवगत कराया गया है। संबंधित थाने को भी कार्रवाई के लिए पत्र लिखेंगे।
दोनों लड़कों को छोड़ना पड़ा
तराना थाना प्रभारी संजय मंडलोई ने बताया कि मरीज की मौत तबीयत बिगड़ने पर देवास अमलतास अस्पताल ले जाते समय होना बताई जा रही है। उक्त घटना अभी तक सोशल मीडिया पर ही चल रही है। मुझे एसडीएम ने मौखिक आदेश दिया था जिसके बाद वीडियो के आधार पर दोनों लड़कों को पकड़कर भी ले आए। उनका कहना था कि उनका मरीज भी वहीं भर्ती था, इसलिए गए थे। मामले में बीएमओ व अन्य ने लिखित में शिकायत नहीं की इसलिए दोनों को छोड़ना पड़ा। अगर शिकायत मिलती है तो केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लेंगे।

खबरें और भी हैं...