पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Where Did So Much Acid Come From And For What Purpose, It Will Be Known Only From The Warehouse Operator SP

भास्कर का खुलासा:इतना एसिड आया कहां से और किस काम के लिए रखा, यह गाेदाम संचालक से ही पता चलेगा- एसपी

उज्जैन8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बंद पड़ी साबुन की फैक्टरी - Dainik Bhaskar
बंद पड़ी साबुन की फैक्टरी
  • खतरनाक एसिड मिलने के बाद पड़ोस की बंद साबुन फैक्टरी में भी सर्चिंग

झिंझरकांड में जेल में बंद केमिकल दुकान संचालक जितेंद्र मुकाती के भाई राकेश मुकाती के खेत पर बने गाेदाम से बड़ी मात्रा में एसिड जब्त होने के बाद रविवार को दोबार पुलिस मौके पर जांच करने पहुंची।

गाेदाम से लगी सालों से बंद साबुन फैक्टरी में भी पुलिस टीम ने सर्चिंग की। एसपी ने कहा कि इतना एसिड कहां से आया और किस उपयोग के लिए इसे रखा था यह गाेदाम संचालक के पकड़े जाने पर ही पता चलेगा। शनिवार रात को भैरवगढ़ पुलिस ने अवैध शराब की सूचना पर केडी पैलेस के समीप कालियादेह गांव में राकेश मुकाती के गाेदाम पर दबिश दी। यहां से 12 बड़ी कैनों में भरा एसिड जब्त किया। एक कैन में 35 से 40 लीटर के करीब एसिड भरा होना बताया गया है। इसमें विष अधिनियम के तहत केस दर्ज करते हुए आगे की जांच शुरू की गई है।

एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने बताया इतनी बड़ी मात्रा में घातक एसिड मिलना व मौके से गाेदाम संचालक का फरार हो जाना संदेहभरा है, जिसकी जांच करवा रहे है। उसके पकड़े जाने पर ही इस बारे में स्थिति स्पष्ट होगी।

एक्सपर्ट से राय ली, स्थानीय एसिड जानकारों को भी थाने बुलवाया
भैरवगढ़ पुलिस ने एसिड को लेकर रविवार को एफएसएल से जुड़े एक्सपर्ट और स्थानीय एसिड के जानकारों से मदद ली। जिसमें यह पाया कि कैनो में सल्फ्युरिक एसिड है। थाना प्रभारी सतनामसिंह ने बताया एसिड के संदर्भ में ड्रग व खाद्य विभाग को सूचना दी। संबंधित विभाग की टीम रविवार शाम तक जांच को थाने नहीं पहुंची थी। एएसपी अमरेंद्रसिंह चौहान ने बताया सोमवार को वे भी घटनास्थल पर जांच करने जाएंगे।

यह आशंका- भाई जेल में एसिड उसी का तो नहीं
पुलिस के सामने एक आशंका यह भी आई है कि फरार राकेश मुकाती का भाई जितेंद्र जो कि केमिकल दुकान का संचालक है वर्तमान में झिंझरकांड में भैरवगढ़ जेल में है। कहीं उसके अक्टूबर माह में पकड़े जाने के बाद परिजनों ने उक्त एसिड गाेदाम में लाकर छिपाकर तो नहीं रखा था। अगर ऐसा भी है तो यह खतरनाक है।

खबरें और भी हैं...