• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Why Is There No Cheating Case Against MLA Morwal And Son In The Hospital's Fake Documents Case?

दुष्कर्म पीड़िता ने उठाए सवाल:अस्पताल के फर्जी दस्तावेज मामले में विधायक मोरवाल व पुत्र पर धोखाधड़ी का केस क्यों नहीं

उज्जैन3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चेताया- दो दिन में केस दर्ज नहीं हुआ तो सीएम हाउस के बाहर धरना दूंगी, फर्जी इंट्री के मामले में डॉ. स्वामी हो चुके सस्पेंड। - Dainik Bhaskar
चेताया- दो दिन में केस दर्ज नहीं हुआ तो सीएम हाउस के बाहर धरना दूंगी, फर्जी इंट्री के मामले में डॉ. स्वामी हो चुके सस्पेंड।

सरकारी अस्पताल के फर्जी दस्तावेज मामले में बड़नगर के कांग्रेस विधायक मुरली मोरवाल व उनके पुत्र करण मोरवाल के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज नहीं किए जाने को लेकर शुक्रवार को दुष्कर्म पीड़िता कांग्रेस नेत्री ने कलेक्टोरेट भवन के बाहर धरना दिया। पीड़िता ने कहा कि विधायक और उनके पुत्र ने अस्पताल के दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा करवाया है।

जिस पर धोखाधड़ी का केस दर्ज नहीं किया जा रहा है। मैं बड़नगर थाने में आवेदन दे चुकी हूं, उस पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। पीड़िता ने चेताया कि दो दिन में केस दर्ज नहीं किया तो मैं सीएम हाउस के बाहर धरना दूंगी। उन्होंने आत्महत्या की बात भी कही है।

इंदौर में विधायक पुत्र के खिलाफ दर्ज दुष्कर्म के केस में आरोपी करण मोरवाल की जमानत हो चुकी है। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि गिरफ्तारी से बचने के लिए आरोपी मोरवाल ने बड़नगर के सरकारी अस्पताल के रजिस्टर में फर्जी इंट्री करवाई थी। जिसमें यहां के डॉ देवेंद्र स्वामी को निलंबित किया जा चुका है।

अस्पताल के फर्जी दस्तावेज के मामले में दोषी बड़नगर विधायक मुरली मोरवाल और उनके पुत्र करण पर धोखाधड़ी का केस दर्ज नहीं किया जा रहा है। मैं पुलिस अधिकारियों और बड़नगर थाने में आवेदन कर चुकी है लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। विधायक अपना प्रभाव दिखाकर प्रकरण दर्ज नहीं होने दे रहे हैं।

यह है मामला

कांग्रेस नेत्री ने 2 अप्रैल-2021 को इंदौर में दुष्कर्म का केस दर्ज करवाया था। जिसमें कोर्ट ने आरोपी करण को गिरफ्तार करने के आदेश दिए थे। डॉ. स्वामी ने बड़नगर के सरकारी अस्पताल में फर्जी तरीके से एक अधीनस्थ कर्मचारी पर दबाव बनाकर भर्ती रजिस्टर में अन्य मरीज के स्थान पर आरोपी करण का नाम लिख दिया था और बताया था कि करण इस दौरान में भर्ती था।

युवती ने जब इसकी शिकायत कलेक्टर से की तो उन्होंने बड़नगर के अनुविभागीय अधिकारी को जांच के आदेश दिए। उन्होंने अपनी जांच रिपोर्ट में यह उल्लेख किया कि 13 फरवरी 2021 को भर्ती रजिस्टर सीरियल क्र-144/35 पर ओवर राइटिंग कर मोरवाल का नाम दर्ज किया गया। जांच अधिकारी ने वार्ड बाय से पूछा तो उसने बताया पिछले एक साल से करण मोरवाल को सरकारी अस्पताल में मैंने भर्ती होते नहीं देखा।

युवती झूठ बोल रही, मुझे न्यायपालिका पर भरोसा- विधायक

बड़नगर विधायक मुरली मोरवाल का कहना है कि अस्पताल के फर्जी दस्तावेजों के आधार पर मेरे पुत्र को जमानत नहीं मिली है। युवती झूठ बोल रही है। अस्पताल के मामले में कलेक्टर की जांच चल रही है। हमें न्याय पालिका पर पूरा भरोसा है। युवती ने डराने-धमकाने का जो आरोप लगाए हैं, वह निराधार हैं। इससे हमारी छवि खराब हो रही है।

खबरें और भी हैं...