पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वेतन काटने का आरोप:गुलाना कॉलेज के 16 अतिथि विद्वानों के वेतन में से हर माह 10500 रुपए काटे

शाजापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शिक्षकों की रोटेशन पद्धति से सैलरी काटने का लगाया प्राचार्य पर आरोप

गुलाना महाविद्यालय अतिथि शिक्षकों ने प्राचार्य पर वेतन काटने का आरोप लगाया है। इनका कहना कि महामारी में जब किसी भी कर्मचारी का वेतन नहीं काटने का शासन के निर्देश हैं तो प्रभारी प्राचार्य डाॅ. सोलंकी द्वारा 16 अतिथि विद्वानों का 7 दिन का 10,500 और कुल मिलाकर 1,68,000 मानदेय काटा है। गौरतलब है अप्रैल में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा 50 प्रतिशत रोटेशन उपस्थिति के निर्देश दिए थे। सभी 16 अतिथि विद्वानों ने अप्रैल में 50 प्रतिशत रोटेशन अनुसार महाविद्यालय में अपनी उपस्थिति दर्ज की। बावजूद अतिथियों का वेतन काटा है। अतिथि विद्वानों ने इस बारे में उच्च अधिकारियों को भी अवगत करा दिया है।

वेतन लीड कॉलेज से देंगे
डॉ. सोलंकी ने बताया आयुक्त और उच्च शिक्षा के निर्देशानुसार अप्रैल-मई माह में अतिथि विद्वानों का 21 दिनों के मानदेय भुगतान का आवंटन हुआ है। यह वार्षिक उपस्थिति कार्यदिवस के आधार पर करना था। इसमें सभी निर्देशों का पालन करते हुए अतिथियों विद्वानों का वेतन बनाया है। वेतन शाजापुर के लीड कॉलेज से दिया जाना है। इसकी जानकारी शाजापुर के लीड कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आरकेएस राठौर और अधिकारियों को भी है।
नियमानुसार दे रहे वेतन
शासन के निर्देशानुसार नो वर्किंग नो पे और सप्ताह के 2 दिन घटाने पर 5 दिवस का सप्ताह घोषित करने के बाद उन्हें जो वेतन दिया जा रहा है, वह नियमानुसार है। प्राचार्य सोलंकी ने अतिथि विद्वान की उपस्थिति के अनुसार ही वेतन बनाया है, जो उनको दिया जा रहा है। अतिथि विद्वानों द्वारा लगाया आरोप गलत है। इस मामले में आयुक्त से भी बात कर ली गई है।-डॉ. आरकेएस राठौर, बीकेएसएन कॉलेज प्राचार्य

खबरें और भी हैं...