पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • Shajapur
  • As A Supervisor Of Women And Child Development, Chouhan Had Demanded Money From Anganwadi Worker And Sentenced To Four Years' Imprisonment

न्यायालय का ने सुनाया सजा:महिला एवं बाल विकास की पर्यवेक्षक रहते मांगे थे रुपए आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से चौहान ने मांगी थी रिश्वतचार साल की सजा सुनाई

शाजापुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • महिला एवं बाल विकास की पर्यवेक्षक रहते मांगे थे रुपए

महिला एवं बाल विकास विभाग की पर्यवेक्षक रहते आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से 20 हजार रुपए की रिश्वत लेने वाली प्रियंका चौहान को न्यायालय विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम शाजापुर मनोज कुमार शर्मा ने दोषसिद्ध होने पर चार साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। इसके अलावा 20 हजार रुपए जुर्माना भी लगाया है।

जिला मीडिया प्रभारी एवं एडीपीओ सचिन रायकवार ने बताया ग्राम खेड़ा नरेला तहसील बड़ोद जिला आगर मालवा की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता कमलाबाई से पर्यवेक्षक रहते प्रियंका चौहान ने साल 2017 में 20 हजार रुपए रिश्वत की मांग की थी। 11 सितंबर 2017 को कमलाबाई ने लोकायुक्त एसपी उज्जैन से शिकायत की थी।

लोकायुक्त ने पर्यवेक्षक को ट्रेप करने के लिए कमलाबाई से वॉइस रिकॉर्ड करवाई थी। वॉइस रिकार्ड में स्पष्ट हुआ कि महिला एवं बाल विकास की पर्यवेक्षक प्रियंका चौहान कमलाबाई से 20 हजार रुपए की रिश्वत की मांग कर रही है। पर्यवेक्षक धमका रही थी कि यदि उसने रिश्वत के 20 हजार रुपए नहीं दिए तो वह आंगनवाड़ी कार्यकर्ता को नोटिस जारी कर उसके खिलाफ कार्रवाई करेगी।

कमलाबाई उसके सामने 2 घंटे तक मिन्नतें करती रही। लोकायुक्त पुलिस ट्रेप प्लान किया और योजनाबद्ध तरीके से पर्यवेक्षक को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार कर राशि बरामद की। तत्कालीन उप पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त कार्यालय उज्जैन संजय जैन द्वारा ट्रेप आयोजित किया था।

लोकायुक्त उज्जैन द्वारा ही प्रकरण में चालान प्रस्तुत किया एवं अभियाेजन की ओर से गवाह कराए गए। प्रकरण के पैरवीकर्ता विशेष लोक अभियोजक सचिन रायकवार एडीपीओ शाजापुर ने प्रकरण में मौखिक व लिखित तर्क प्रस्तुत किए, जिनसे सहमत होते हुए न्यायालय द्वारा आरोपी प्रियंका चौहान को दंडित किया गया।

खबरें और भी हैं...